श्री कृष्ण जन्मभूमि निर्माण न्यास की बैठक में राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषित
July 31st, 2020 | Post by :- | 212 Views

वृंदावन,मथुरा(राजकुमार गुप्ता) आज दिनांक 31 जुलाई आनंद वाटिका कॉलोनी के रामा आश्रम गेस्ट हाउस में दोपहर 2:00 बजे श्री कृष्ण जन्मभूमि निर्माण न्यास की बैठक हुई। जिसमें न्यास के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य देवमुरारी बापू ने जानकारी दी कि है ट्रस्ट 23 जुलाई हरियाली तीज को रजिस्टर्ड कराया गया है ट्रस्ट में वृंदावन के 11 पदाधिकारी नियुक्त किए गए हैं इसके अलावा 14 प्रदेश के संत महामंडलेश्वर को को जोड़ा जा चुका है उनकी स्वीकृति मिल चुकी है उन्होंने सदस्यता ले ली है वृंदावन सहित राष्ट्रीय कार्यकारिणी की आज घोषणा की गई है जिसमें यह निर्णय लिया गया है कि इस ट्रस्ट में वृंदावन के संत और महंतों को जोड़ने के लिए हस्ताक्षर अभियान चलाया जाएगा व उनका समर्थन लिया जाएगा। इस ट्रस्ट में बैरागी, सन्यासी, उदासी, आदि संतों को जोड़ा जाएगा और राष्ट्रीय स्तर पर आंदोलन चलाया जाएगा। जिसका उद्देश्य श्री कृष्ण जन्मभूमि पर बनी हुई मस्जिद रूपी कलंक को हटाकर श्री राम जन्मभूमि की तरह भव्य निर्माण किया जाएगा इसकी पहली बैठक 1 फरवरी को वृंदावन में संतों के साथ की गई थी अब ट्रस्ट को आगे विस्तार रूप से बढ़ाया जाएगा इसके लिए अब तक 14 प्रदेश के संत व महंत अपनी स्वीकृति दिए हैं जिन्हें राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी दी जाएगी ट्रस्ट की राष्ट्रीय कमेटी मैं 80 संत महंत को जोड़ा जाएगा आवश्यकता पड़ने पर सदस्य बढ़ाएं भी जा सकते हैं क्योंकि श्री कृष्ण जन्मभूमि निर्माण के लिए सबकी भागीदारी चाहिए अब तक जिन प्रदेशों के संतो को जोड़ा गया है- उसमें उत्तर, प्रदेश मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, झारखंड, बिहार ,जम्मू, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, हिमाचल जुड़ चुके हैं। आज की बैठक में ट्रस्ट के प्रमुख पदाधिकारी मौजूद रहे
राष्ट्रीय अध्यक्ष- आचार्य देवमुरारी बापू, उपाध्यक्ष- अनुराग तिवारी, संगठन महामंत्री- उपदेश दास, महामंत्री- नवल बिहारी शरण, मंत्री- संत बालक दास, कोषाध्यक्ष- कृष्णदास प्रेमियोगी, संगठन महामंत्री- संत बृजभूषण बापू, प्रचार मंत्री- संत गोपाल दास, महामंत्री -बाल कृष्ण दास, महंत अंबिका दास, प्रेम गिरी, रमेश जी (श्री जी), कुणाल गिरी, संतोष शरण ,आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।