कटे, गले-सड़े और दूषित खाद्य पदार्थ बेचने पर की जाएगी कार्रवाई।
July 29th, 2020 | Post by :- | 171 Views

अम्बाला: (अशोक शर्मा)
आयुक्त खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग, हरियाणा एवं सिविल सर्जन अम्बाला के आदेशानुसार खाद्य सुरक्षा अधिकारी डा0 गौरव शर्मा व उनकी टीम ने जिला अम्बाला में स्थित दूध की डेयरियां डिपार्टमैंटल स्टोर, करियाने की दुकानों, मिठाई की दुकानों, ढाबों, होटलों, रैस्टोरेंट एवं फलों, सब्जियों आदि की रेहडियों एवं अन्य स्थानों जैसे कोल्ड स्टोर, खाद्य पदार्थ बनाने की फैक्टरियों आदि का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम, 2006 के तहत खाद्य पदार्थो के नमूने लेकर खाद्य प्रयोगशाला, करनाल में जांच हेतू भेज दिए गए। निरीक्षण के दौरान खाद्य पदार्थ/ जो खाने योग्य नहीं थे, को मौके पर ही नष्ट करवा दिया गया एवं सभी दुकानदारों को निर्देश दिए गए कि सभी खाद्य पदार्थ ढक कर रखें व कटे हुए फल न बेचे, मिठाई को ढक कर रखें, फलों, सब्जियों एवं जूस आदि की रेहडिय़ों को मिट्टïी, धूल व मक्खियों से बचा कर रखें। अगर कोई भी दुकानदार खुले में रखें खाद्य पदार्थ, कटे हुए फल, गले सड़े व दूषित खाद्य पदार्थ बेचता हुआ पाया गया तो उन सभी खाद्य पदार्थों को नष्ट करवा दिया जाएगा।
निरीक्षण के दौरान सभी खाद्य कारोबार कत्र्ताओं को जनहित में सूचित किया गया कि कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत आयुक्त कार्यालय के आदेशानुसार खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2006 के अन्तर्गत निर्मित खाद्य सुरक्षा एवं मानक (निषेध एवं बिक्री पर प्रतिबन्ध) नियम, 2011 के अनुसार हरियाणा राज्य में किसी खाद्य उत्पाद में संघटकों के रूप में तम्बाकू व निकोटिन (गुटका, पान मसाला) के निर्माण, भंडारण, वितरण एवं बिक्री को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित किया गया हैं। अगर कोई भी दुकानदार/ खाद्य कारोबारकत्र्ता उपरोक्त प्रतिबंधित खाद्य पदार्थ बेचता हुआ पाया गया तो उसके खिलाफ विभाग द्वारा सख्त कार्यवाही की जाएगी।
बॉक्स:- निरीक्षण के दौरान टीम ने जलबेड़ा गांव स्थित एक डेयरी फार्म से गाय के दूध का नमूना लिया गया। इसी प्रकार नारायणगढ़ रोड़ स्थित एक जूस की दुकान से मोसम्मी जूस, बनाना शेक, पपाया शेक, वीटा पैस्टराईजड और स्टैंडर्डलाईज दूध व कोर्ट रोड़ अम्बाला शहर के नजदीक एक कैंटीन से ब्रेड पकौड़े के नमूने लिये।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।