गडरिया जाति को एससी में शामिल करने का विभिन्न संस्थाओं ने किया विरोध
July 28th, 2020 | Post by :- | 37 Views

यमुनानगर,(सुरेश अंसल)। बाबा लाल दास कपाल मोचन के नेतृत्व में हरियाणा अनुसूचित जाति राजकीय अध्यापक संघ के सदस्यों व संविधान सुरक्षा समिति के सदस्यों ने यमुनानगर जिला सिचवालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया । इससे पहले उन्होंने एक जलूस की शक्ल में जिला सचिवालय पहुंचकर एसडीएम माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भी सौंपा। इस मौके पर अनेक वक्ताओं ने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा गडरिया जाति को एससी वर्ग में शामिल करना सरकार के उन दावों की पोल खोलता है जिसमें वह अनुसूचित वर्ग की हितचिंतक होने का दम भरती है। साथ ही वक्ताओं ने कहा कि यह प्रदर्शन तब तक चलेगा जब तक कि सरकार अपने फैसले को वापस नहीं ले लेती। अनाज मंडी गेट पर हुई बैठक में वक्ताओं ने कहा कि सरकार द्वारा जानबूझकर कोरोना काल में संविधान की धारा 341 का उल्लंघन कर अनुसूचित जाति में पिछड़ा वर्ग की गडरिया जाति को शामिल कर दिया है। जबकि यह जाति पहले से ही पिछड़ वर्ग में आरक्षण का लाभ ले रही है। इस कार्रवाई को असंवैधानिक बताया गया। वक्ताओं ने कहा कि पहले ही हरियाणा में अनुसूचित जातियों की संख्या 24 फीसदी के करीब है। जबकि उन्हें बीस फीसदी ही आरक्षण मिल रहा है। इस मौके पर संत शिरोमणि गुरु रविदास सभाएं, अंबेडकर सभाएं, वाल्मिकी सभाओं से जुड़े प्रतिनिधियों ने विचार रखे। सभी ने एक होकर आंदोलन चलाने की बात कही।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।