कोरोना के मरीज मिलने के बाद तुरंत नहीं होते परिवार के टेस्ट।
July 27th, 2020 | Post by :- | 26 Views

पंचकूला।(मनीषा) पंचकूला में कोरोना मरीजों की संख्या में अत्यंत तेजी से वृद्धि पर चिंता व्यक्त करते हुए फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष आरपी मल्होत्रा और वरिष्ठ उपप्रधान भारत हितैषी ने हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज और विधानसभा स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि पंचकूला जिला स्वास्थ्य विभाग की अत्यंत उदासीनता के कारण कोरोना के मरीजों में पिछले कुछ दिनों कई गुना वृद्धि हुई है। मल्होत्रा ने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि कई दिन बीत जाने के बाद कोरोना मरीजों के परिवार के सदस्यों के सैंपल नहीं लिए जाते, जिससे बीमारी फैलने की आशंका रहती है। भारत हितैषी ने बताया कि सेक्टर 10 के मकान नंबर 994 में सोमवार 20 जुलाई को देवांश गोयल युवक कोरोना से संक्रमित पाया गया था। इस घर में रहने वाले 8 सदस्यों के सैंपल 24 जुलाई दोपहर को लिए गए, वह भी जब डिप्टी कमिश्नर, एसडीएम, सिविल सर्जन को बार-बार फोन किया गया। इस घर में सैनिटाइजेशन भी तीन दिन बाद हुआ। महासचिव एमसी सेठी ने बताया कि सेक्टर 15 के मकान नंबर 40 निवासी नितिन कादियान को 24 जुलाई को कोरोना के पदाधिकारियों द्वारा उसे फॉलोअप करने के बाद तीन दिन बाद पारिवारिक सदस्यों के सैंपल हो पाए।
वित्त सचिव एनके शर्मा ने बताया कि सेक्टर 8 के मकान नंबर 449 में अभिनव नामक युवक 23 जुलाई को कोरोना की पुष्टि हुई, लेकिन इस परिवार के सदस्यों के सैंपल नहीं लिए गए। सेक्टर 10 के मकान नंबर 360 में रहने वाले अभिषेक नारंग को भी 23 जुलाई को कोरोना की पुष्टि हुई। इस घर में रहने वाले 11 सदस्यों के कोरोना टेस्ट लेने चाहिए थे, लेकिन किसी ने सुध नहीं ली। आरपी मल्होत्रा और भारत हितैषी ने स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज और विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता से मांग की है कि स्वास्थ्य विभाग को तुरंत निर्देश दिया जाए कि जिस भी घर में कोरोना के मरीज की पुष्टि होती है, उस घर के सभी सदस्यों के सैंपल अविलंब लिए जाएं, ताकि कोरोंना का संक्रमण आगे ना फैले।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।