किसान फसल बीमा योजना के तहत 31 जुलाई तक करवा सकते हैं बीमा : उपायुक्त सुजान सिंह
July 26th, 2020 | Post by :- | 22 Views

कैथल(लोकहित एक्सप्रेस विशाल चौधरी)हरियाणा सरकार द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना खरीफ 2020 की चार फसलों धान, कपास, मक्का व बाजरा के प्रति एकड़ प्रिमियम एवं बीमित राशि निर्धारित की गई है। योजना के तहत आगामी 31 जुलाई 2020 तक इन चारों फसलों के लिए बीमा करवाया जा सकता है।
उपायुक्त सुजान सिंह ने बताया कि सरकार द्वारा धान फसल का प्रिमियम 679 रुपए प्रति एकड़ तथा बीमित राशि 33 हजार 999 रुपए प्रति एकड़ निर्धारित की गई है। इसी प्रकार कपास फसल हेतू प्रिमियम राशि 1650 रुपए प्रति एकड़ तथा बीमित राशि 33 हजार रुपए प्रति एकड़ तय की गई है। बाजरा फसल के लिए प्रिमियम राशि 319 रुपए प्रति एकड़ तथा बीमित राशि 15 हजार 999 रुपए प्रति एकड़ निर्धारित की गई है। मक्का फसल हेतू प्रिमियम राशि 340 रुपए प्रति एकड़ तथा बीमित राशि 17 हजार रुपए प्रति एकड़ तय की गई है। जिला में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत इन चार फसलों का बीमा करने के जिम्मेदारी खरीफ सीजन 2020 के लिए एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी लिमिटिड को दी गई है। उन्होंने किसानों का आह्वान किया कि वे सरकार द्वारा किसानों को जोखिम मुक्त बनाने हेतू प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत 31 जुलाई तक फसलों का बीमा अवश्य करवाएं।
उन्होंने बताया कि योजना के तहत ग्राम पंचायत को बीमित यूनिट माना गया है। सभी कृषकों की बीमा कवरेज भारत सरकार के पोर्टल पीएमएफबीवाई डॉट जीओवी डॉ इन  पर दर्ज करवाना अनिवार्य है। प्रीमियम राशि केवल एनसीआईपी के भगुतान गेटवे पे-जीओवी द्वारा ही भेजी जाए। सभी कृषकों का आधार नंबर होना अनिवार्य है। इस योजना में केवल कपास, बाजरा, मक्का व धान की फसलें उगाने वाले सभी किसानों को सम्मिलत किया गया है। अऋणी किसान इच्छानुसार अपनी बैंक शाखा, अधिकृत मध्यस्थ, अटल सेवा केंद्र व पोर्टल के माध्यम से 31 जुलाई 2020 तक बीमा करवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि व्यापक आधार पर होने वाली प्राकृतिक विपदा के कारण खड़ी फसलों की औसत पैदावार में कमी पर क्लेम अधिकृत क्षेत्र आधार पर प्रदान किया जाएगा। जलभराव (धान की फसल को छोड़कर), ओलावृष्टिï, बादल फटना व आसमानी बिजली गिरने से प्राकृतिक आग के कारण खड़ी फसलों का नुकसान होने पर क्लेम खेत स्तर पर दिया जाएगा। फसल कटाई के 14 दिनों तक खेत सुखाने हेतू रखी कटी फसल का चक्रवात, चक्रवातीय वर्षा, बेमौसमी वर्षा तथा ओलावृष्टिï से हुए नुकसान का भी क्लेम खेत स्तर पर प्रदान किया जाएगा। किसान नि:शुल्क सहायता हेतू 1800-180-2117 पर संपर्क कर सकते हैं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।