पीलीभीत : ग्राम प्रधान पर लेखपाल के साथ मिलीभगत कर ग्राम समाज की जमीन कब्जाने का आरोप : जांच शुरु
July 25th, 2020 | Post by :- | 192 Views

पीलीभीत, विक्रान्त ऋषि ।

ग्राम प्रधान पर लेखपाल ने मेहरबानी कर कब्जा करवा दी ग्राम समाज की जमीन,

आरोपी ग्राम प्रधान ने नजूल भूमि का कॉलोनाइजर के साथ क्रय करने का कर डाला लाखों का खेल,,

पीलीभीत में एंटी भूमाफिया स्क्वायड सिस्टम फेल,,

शिकायत पर एसडीएम, तहसीलदार ने मौके का किया निरीक्षण

पीलीभीत में ग्राम प्रधान व लेखपाल की मिलीभगत के चलते ग्राम प्रधान ने नजूल की भूमि पर कब्जा कर कॉलोनाइजर के हाथ क्रय करने का मामला सामने आया है । वहीं ग्रामीणों से मिली शिकायत के बाद सदर एसडीएम व तहसीलदार ने मौके पर पहुँच कर आरोपित लेखपाल अनुराग मिश्रा की कड़ी फ़टकार लगाते हुए नजूल की भूमि पर किए गए निर्माण कार्य कब्जे को गिराने के आदेश दे दिए है । साथ ही जांच के बाद गौहनिया गांव के ग्राम प्रधान नरेंद्र वर्मा सहित नजूल की भूमि पर सांठगांठ करने वाले लेखपाल कार्रवाई होना तय है । एक सवाल यह उठता है कि एक तरफ योगी सरकार एंटी भूमाफिया स्क्वायड कर तहत जमीनो पर कब्जा करने वाले भूमाफियाओं पर ताबड़तोड़ कार्रवाई करने का दावा पेश रही है ।वहीं पीलीभीत में लेखपाल भूमाफियाओ को संरक्षण देकर नजूल की जमीन पर कब्जा नहीं कराते उसका कॉलोनाइजर के हाथ बिकवा कर करोड़ो के राजस्व की क्षति पहुचाने में लगे हैं। ऐसे में ग्रामीणों की शिकायत के बाद ही जिले के जिम्मेदार अफसरों की नींद खुलती तब जाकर जमीन पर कब्जा करने वालो को संरक्षण प्रदान करने वाले लेखपाल व भूमाफिया ग्राम प्रधानों पर जाकर जिला प्रशासन के जिम्मेदार अफसर जाँच का हवाला देते हुए कड़ी कार्रवाई की बात कहते नजर आ रहे हैं। यही नहीं जब मामले में हल्का के लेखपाल से जानकारी ली गई तो लेखपाल ने अपना पल्ला झाड़ते हुए कहने लगा कि मैं तो उस तरफ कभी गया भी नहीं मुझे कोई जनाकरी ही नहीं है । आरोपी लेखपाल को अपने क्षेत्र की नजूल भूमि के बारे में कुछ पता भी नहीं और ग्राम समाज की जमीन को मौजूदा ग्राम प्रधान ने बिना लेखपाल से मिले नजूल की भूमि को कॉलोनाइजर के हाथ कैसे क्रय कर दिया यह अपने आप मे बड़ा सवाल है , फिलहाल अधिकारियों ने मौके पर जाकर निरीक्षण कर जाँच शुरू कर दी है ।जिसके बाद आरोपी ग्राम प्रधान नरेंद्र वर्मा सहित लेखपाल कार्रवाई होना तय है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।