रोगग्रस्त बीज तैयार कर बेचने वालों के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई निजामपुरा ।
July 25th, 2020 | Post by :- | 164 Views
रोगग्रस्त बीज तैयार कर  बेचने वालों के खिलाफ हो कार्रवाई :निजामपुरा।

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
सब्जी उत्पादक किसान जत्थेबंदी के नेताओं कामरेड लखबीर सिंह निजामपुरा ,भूपिंदर सिंह तीर्थपुरा और राजबीर सिंह द्वारा आज जारी प्रेस बयान ने कहा कि पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी लुधियाना के अमृतसर में स्तिथ रिजनल केंद्र नाग कलां द्वारा इस वर्ष बासमती 1509 का बीज जो बेचा गया है। वह बीज खतरनाक रोग जिस को यूनिवर्सिटी के माहिर झंडा रोग कहते हैं  ।जिन किसानों ने इन केंद्र से यह बीज की खरीदारी की थी उनके खेत इस रोग के साथ भरे पड़े हुए हैं ।किसान महंगी दवाओं और कृषि अधिकारियों के कहने के उपरांत रोग ग्रस्त बूते खेतों में उखाड़ रहें हैं ,जिसके चलते किसानों को आर्थिक रूप से काफ़ी नुकसान हो रहा है। किसानों के खेत इस बीमारी के कारण खाली हो रहें हैं ।
; । वहीँ दूसरी बार यूनिवर्सिटी के अधिकारी बीज स्कैंडल के शक के घेरे में आ गए है। इस बीज का प्रयोग ज़्यादातर काश्त सब्जियों को पैदा करने वाले किसान करते हैं ।
जिसके चलते अमृतसर शहर के आसपास सब्जी की खेती करने वाले किसानों का जंडियाला गुरु और वेरका ब्लॉक के अंतर्गत सैंकडों एकड़ रकबा इस बीमारी के प्रभाव के नीचे आ गया है। इस सबंध में गत दिनों जहां सबंधित किसानों गुरदेव सिंह गांव  मिहोका ,हरजीत सिंह ,गुरजीत सिंह गांव निजामपुरा द्वारा जिला कृषि अधिकारी को शिकायत की गई थी ।जिसके चलते कृषि विभाग की ओर से जिला अमृतसर से स्पेशल टीम डॉक्टर मस्तिन्दर सिंह विषय माहिर ,ए ओ प्रितपाल सिंह ,और डॉक्टर हरकीरत सिंह की।अध्यक्षता में प्रभावित किसानों का मौका देखा ।इस सबंध में किसान जत्थेबंदी का वफद जिला कृषि अधिकारी गुरदयाल सिंह बल को मिला और उन्हें किसानों को घटिया बीज बेचने औऱ रोग ग्रस्त बीज तैयार करने वाले अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की ।जत्थेबंदी  के नेताओं ने यूनिवर्सिटी के अधिकारियों और पंजाब के मुख्यमंत्री से मांग करते हुए कहा कि इस स्कैंडल की जाँच करवा कर आरोपियों के  खिलाफ बनती कार्रवाई की जाए।
। जत्थेबंदी नर घोषणा की कि यदि प्रभावित किसानों को इंसाफ नही मिला तो जत्थेबंदी इस घटिया बीज बेचने वाले यूनिवर्सिटी के केंद्र नाग कलां के आगे प्रदर्शन करेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।