पद का दुरूप्रयोग करने पर नगरपालिका पुन्हाना चेयरपर्सन को किया गया पदमुक्त
July 24th, 2020 | Post by :- | 24 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  हरियाणा शहरी स्थानीय निकाय विभाग निदेशक ने पुन्हाना नगरपालिका में भारी गबन व गोलमाल में संलिप्त व अपने पद का दुरूप्रयोग करने के आरोप पर कार्रवाई करते हुए पुन्हाना नगरपालिका की चेयरपर्सन रूबीना बेगम को पद मुक्त किया है। निदेशक की इस बडी जांच व कार्रवाई से शहर की राजनीति गर्म हो गई है। वक्फ बोर्ड के पूर्व चैयरमेन व निर्दलीय विधायक गुट को इस कार्रवाई से जोर का झटका धीरे से लगा है।
आपको बात दें कि हरियाणा शहरी स्थानीय निकाय के निदेशक ने करीब तीन महीने पहले पुन्हाना नगरपालिका में भारी गबन व गोलमाल के आरोप पर कार्रवाई करते हुए पुन्हाना नगरपालिका के सचिव , म्युनिसिपल इंजीनियर और जेई को सस्पेंड कर दिया था। लेकिन पालिका की चेयरपर्सन के खिलाफ कार्रवाई न होने से पार्षदों में नाराजगी थी। पुन्हाना नगरपालिका के वाइस प्रेसिडेंट बलराज सिंगला , रवि , सतपाल , अजहरूदीन , मनीषा सहित कई पार्षदों ने पुन्हाना नगर पालिका में बिना काम किये पैसे हड़पने , गलत रास्तों को बनाने के नाम पर फर्जी पैमेंट करने और उत्तर प्रदेश की जमीन पर बिना सरकारों की मंजूरी के ही रास्ता बनाकर लाखों रूपये के गबन के गंभीर आरोप लगाकर मुख्यमंत्री से जांच की मांग की थी। करीब दो साल से चल रही जांच में कुछ आरोपों के सही पाए जाने के बाद स्थानीय शहरी निकाय विभाग हरियाणा के निदेशक ने पुन्हाना के नगरपालिका सचिव सुनील कुमार रंगा , म्युनिसिपल इंजीनियर डालचंद शर्मा , कनिष्ठ अभियंता जीतराम को पहले ही सस्पेंड कर दिया था। वहीं अब भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने व उसमें संलिप्त होने के आरोप में चेयरपर्सन को भी पद मुक्त किया है। पुन्हाना नगरपालिका के वाइस प्रेसिडेंट बलराज सिंगला ने बताया कि पुन्हाना नगरपालिका की चेयरपर्सन ने सचिव , एमई और जेई के साथ मिलकर पुन्हाना में उत्तर प्रदेश की जमीन पर करीब 80 – 90 लाख रूपये के रास्ते बना दिए , जबकि इन रास्तों को बनाने से पहले चेयरपर्सन और अधिकारियों ने उत्तर प्रदेश और न ही हरियाणा सरकार ने मंजूरी ली थी। जबकि दूसरे विभाग या राज्य की जमीन पर कंट्रक्शन करने से पहले मंजूरी लेना जरूरी होता है। इसके अलावा नगरपालिका में काफी कार्यो में भारी गोलमाल किया गया हुआ था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।