सहायक भूमि संरक्षण अधिकारी कृषि एवं किसान कल्याण विभाग कुरुक्षेत्र के द्वारा सूक्ष्म सिंचाई लगाने हेतु जागरूक कैंप का आयोजन किया गया ।
July 24th, 2020 | Post by :- | 288 Views

कुरुक्षेत्र । सहायक भूमि संरक्षण अधिकारी कृषि एवं किसान कल्याण विभाग कुरुक्षेत्र के द्वारा गांव छपरा और मथाना में किसानों को टपका एवं सूक्ष्म सिंचाई लगाने हेतु जागरूक कैंप का आयोजन किया गया । सहायक भूमि संरक्षण अधिकारी कुरुक्षेत्र के द्वारा किसानों को टपका एवं सूक्ष्म सिंचाई लगाने पर हरियाणा सरकार द्वारा दी जाने वाली अनुदान राशि के बारे में बताया गया, उन्हें बताया गया कि डार्क जोन ब्लॉक शाहबाद, पीपली, बाबैन एवं इस्माइलाबाद के किसानों के लिए सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली जैसे टपका, फवारा व सूक्ष्म फवारा लगाने पर केवल कृषकों को 12% जीएसटी जमा करवानी होगी इसके अतिरिक्त किसान को कोई भी खर्चा नहीं देना होगा परंतु ब्लॉक थानेसर पिहोवा एवं लाडवा में कृषकों को 85% अनुदान राशि दी जाएगी । कृषि एवं किसान कल्याण विभाग हरियाणा के अतिरिक्त निदेशक डॉ अनिल राणा जी ने कृषकों को विस्तार से सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली के बारे में जानकारी प्रदान की उन्होंने बताया कि सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली के द्वारा 60 से 65% तक पानी बचाया जा सकता हैऔर इससे उत्पादन में भी काफी बढ़ोतरी होती है । उन्होंने बताया कि सी ए डी ए इरिगेशन विभाग द्वारा 9 एस टी पी प्रोजेक्ट अलग-अलग गांव में लगाए हुए हैं सभी प्रोजेक्टों को सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली स्थापित कर किसानों को लाभ पहुंचाया जाएगा । इस मौके पर एक्शन सी ए डी ए इरिगेशन ने विस्तार से अपने प्रोजेक्टो के बारे में जानकारी दी । मंडल भूमि संरक्षण अधिकारी करनाल द्वारा भी सूक्ष्म सिंचाई लगाने हेतु किसानों को प्रेरित किया गया । इस मौके पर अन्य अधिकारीगण एवं वैज्ञानिक डॉ. शिशपाल एस डी ए ओ इंजीनियर सुमित डॉ भटनागर वरिष्ठ वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केंद्र कृषि निरीक्षक संजय कुमार एवं नीम्बस सूक्ष्म सिंचाई कंपनी के एक्सपर्ट अरविंद पाठक ने सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली से लेकर रखरखाव तक किसानों को पूर्ण जानकारी दी । कृषकों में भी सूक्ष्म सिंचाई करने का उत्साह दिखाई दिया । अंत में किसानों का धन्यवाद करते हुए कैंप का समापन किया गया ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।