31 अक्तूबर 2020 तक जमा करवायेगा उसके लिए निम्र प्रकार की छूट प्रदान की जायेगी-उपायुक्त।
July 23rd, 2020 | Post by :- | 17 Views

अम्बाला-(अशोक शर्मा) नगर परिषद अम्बाला छावनी के कार्यकारी अधिकारी विनोद नेहरा ने बताया कि शहरी स्थानीय निकाय विभाग सरकार के आदेशानुसार जो सम्पत्ति करदाता अपना बकाया सम्पत्ति कर 31 अक्तूबर 2020 तक जमा करवायेगा उसके लिए निम्र प्रकार की छूट प्रदान की जायेगी।
उन्होंने बताया कि जो गृह करदाता 2010-11 से 2020-21 तक एक मुश्त बकाया गृहकर 31 अक्तूबर 2020 तक जमा करवायेंगे उनको शत प्रतिशत ब्याज माफी व 2010 से 2016-17 तक के बिल पर 25 प्रतिशत छूट प्रदान की जायेगी व वर्ष 2017-18 से 2019-20 के गृहकर बिल की वास्तविक डिमांड जमा होगी। उन्होंने बताया कि लाल डोरे के अंतर्गत आने वाले रिहायसी मकानों वाले गृहकर दाताओं को 2010-11 से 2020-21 तक एक मुश्त गृहकर दिनांक 31 अक्तूबर 2020 तक जमा करवाने पर 50 प्रतिशत छूट व शत प्रतिशत ब्याज माफी प्रदान की जायेगी। इसके अलावा वर्ष 2020-21 तक गृहकर 31 जुलाई 2020 तक जमा करवाने पर 10 प्रतिशत छूट व जिन गृहकर दाताओं ने 2017-18 से 2019-20 तक प्रतिवर्ष 31 जुलाई से पहले गृहकर जमा करवाने वाले गृहकरदाताओं को अतिरिक्त 10 प्रतिशत छूट प्रदान की जायेगी। इस कार्य के तहत ऑटो डैबिट सिस्टम जमा करवाने पर 5 प्रतिशत अधिक छूट प्रदान की जायेगी। उन्होंने अम्बाला नगर परिषद सीमा में स्थित सभी गृहकरदाताओं से अपील की है कि वे 31 अक्तूबर 2020 तक अपना बकाया सम्पत्ति कर जमा करवाकर सरकार द्वारा दी गई छूट का लाभ उठाएं।
अम्बाला:सीएससी के जिला प्रबन्धक रोहित सैन व विवेक शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसान अपनी फसल का बीमा गांवो में खुले सीएससी (कामन सर्विस सेंटर) में भी करवा सकते हैंं। फसल बीमा के आवेदन के लिए किसानों से कोई भी शुल्क नहीं लिया जाएगा। किसान को केवल फसल के हिसाब से ही प्रीमियम राशि देनी होगी, जो सरकार ने प्रति एकड़ के हिसाब से निर्धारित की हुई हैं। फसल बीमा के लिए आवेदन करवाने की अंतिम तारीख 31 जुलाई है, उसके बाद पोर्टल बंद हो जाएगा। उन्होंने बताया कि फसल बीमा के लिए किसानों को अपने खेत की खतौनी, खसरा नम्बर, बैंक की पास बुक लेकर जानी होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।