कोरोना का जायजा लेने फील्ड में उतरे डीसी
July 23rd, 2020 | Post by :- | 7 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । कोरोनावायरस को बढ़ने से रोकने के लिए डीसी पंकज नूह गंभीर नजर आ रहे हैं । बुधवार को डीसी पंकज ने कोरोना का जायजा लेने के लिए जिला कोविड केयर सेंटर पिनगवां एवं सिविल सर्जन कार्यालय  मांडीखेड़ा में घंटों विस्तारपूर्वक डॉक्टरों के साथ बातचीत की । इसके अलावा जिला कोविड-19 सेंटर आईटीआई  पिनगवां में भर्ती मरीजों से भी बातचीत की गई । डीसी पंकज नूह स्वास्थ्य विभाग के इंतजामों से काफी हद तक संतुष्ट दिखे , लेकिन जहां खामियां मिली । उनको तुरंत दुरुस्त करने के आदेश दिए। सिविल सर्जन डॉक्टर जेएस पुनिया ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि डीसी पंकज नूह ने जिला कोविड केयर सेंटर का जायजा लिया , वहां पर भर्ती तकरीबन दर्जन भर से अधिक मरीजों से डीसी नूह ने खुलकर बातचीत की। डीसी नूह ने मरीजों से बातचीत के बाद शौचालय की सफाई , नाश्ता में फल , स्नेक्स देने , खाना बेहतर तरीके से बनाने , बेडशीट इत्यादि का पुख्ता तरीके से इंतजाम करने के आदेश दिए । इसके साथ ही सभी मरीजों को गुनगुना पानी आरो का देने के निर्देश दिए गए । इसके बाद डीसी नूह ने सिविल सर्जन कार्यालय मांडीखेड़ा में डॉक्टरों के साथ घंटे बिताए और कोविड-19 से निपटने के इंतजामों का जायजा लिया। दवाइयों के रखरखाव व रिकॉर्ड से लेकर , मरीजों को भर्ती करने , इलाज तथा डिस्चार्ज करने तक का सारा रिकॉर्ड खंगाला। रिकॉर्ड से डीसी नूह पूरी तरह से संतुष्ट दिखे । इसके अलावा मरीजों के लिए दवाइयां व उपकरण इत्यादि के बारे में भी जायजा लिया गया। कुल मिलाकर स्वास्थ्य विभाग नूह कोरोना से निपटने के लिए कितना तैयार है । सब पर बारीकी से नजर रखी गई। जहां कमी मिली वहां सुधार के आदेश दिए , लेकिन जहां अच्छा काम मिला वहां स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की जमकर सराहना भी की। आपको बता दें कि नूह जिला हरियाणा का वह जिला है , जिसमें शुरुआत में सबसे ज्यादा कोरोना केस सामने आए थे । अच्छी बात यह थी कि बिना किसी की मौत के ईद के अवसर पर जिला पूरी तरह से कोरोना फ्री हो गया था , लेकिन कुछ दिन बाद फिर से कोरोना ने नूह जिले में दस्तक दी और पिछले कुछ दिन से लगातार केस सामने आ रहे हैं । बुरी खबर यह भी है कि अब तक कोरोना से 9 लोगों की जान इस जिले में जा चुकी है । कोरोना किसी की जान पर भारी ना पड़े। लोग स्वस्थ होकर अपने घर लौट जाएं , जिला प्रशासन इस तरह के इंतजाम करने में जुड़ा हुआ है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।