बराड़ा गलियों की दुर्दशा को लेकर बराड़ावासियों ने नपा चेयरपर्सन व एसडीएम को ज्ञापन सौंपा
July 23rd, 2020 | Post by :- | 16 Views

अंबाला , बराड़ा ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी )
वार्ड नं. 14 की मुख्य गली की दुर्दशा को लेकर गली वासियों ने उप मण्डल अधिकारी बराड़ा, सचिव नगरपालिका बराड़ा और चेयरपर्सन, नगरपालिका बराड़ा को सौंपा ज्ञापन। गली निवासी अशोक कुमार सैनी ने बताया कि जनकपुरी कालोनी, भाई जगता कालोनी, साजन विहार और गुरदेव मोहल्ले को मुख्य बाज़ार से जोड़ने वाली वार्ड नं 14 की मुख्य गली राजनीतिक षड्यंत्र का शिकार हो रही है।
लॉकडाऊन लगने से पहले गली का आधा टुकड़ा विशेष परिस्थितियों में बनाया गया। कुछ हिस्सा पहले से ही बना हुआ था। लेकिन बीच का लगभग 70 मीटर का टुकड़ा छोड़ दिया गया इस दौरान चेयरपर्सन हटाने-बनने के खेल में यह टुकड़ा लोगों के जी का जंजाल बन गया। फिर जब निर्माण कार्यो को करने की छूट मिली तब गली वासियों को कुछ उम्मीद जगी कि शायद अब इस गली के बनने का नंबर आ जायेगा। लेकिन नतीजा फिर वो ही ढाक के तीन पात। चेयरपर्सन से बार-बार मिलने पर गली को गटके की सौगात तो मिल गई, परन्तु यह सौगात अपने साथ ओर दुर्दशा लेकर आई। इस संबंध में गली वासियों ने बार-बार चुने हुए प्रतिनिधियों और जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारियों से मांग-अपील भी की और ज्ञापन दिए, लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं हुआ।
गली वासियों अशोक कुमार सैनी, सुरेश दत्त, नरेश कुमार, संजय जैन, जोगिंद्र, अवतार सिंह साहनी, पवन राणा, अशोक जैन, मनदीप शर्मा, जसबीर कौर और यशदीप सैनी ने आज फिर चेयरपर्सन बराड़ा, सचिव नगरपालिका बराड़ा और उपमंडल अधिकारी बराड़ा को इस मुख्य गली के शीघ्र निर्माण को लेकर ज्ञापन सौंपा और इसकी कॉपी माननीय शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज को भी ईमेल कर इस पर संज्ञान लेने की अपील की है।
अशोक कुमार सैनी ने आगे बताया कि चेयरपर्सन,सचिव और उपमंडल अधिकारी ने आज गली के शीघ्र निर्माण करवाने को लेकर आश्वस्त किया गया है, गली वासी दस दिन तक वायदा वफ़ा होने का इंतजार करेंगे और अगर फिर भी इस गली के निर्माण कार्य की शुरुआत न की गई तो रास्ता रोकने से लेकर चेयरपर्सन के घर का घेराव और प्रशासनिक अधिकारियों के कार्यालयों का घेराव भी किया जायेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।