जिम संचालकों की मांगो की तरफ ध्यान दे सरकार : इनेलों प्रदेशाध्यक्ष नफे राठी
July 20th, 2020 | Post by :- | 206 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ(गौरव शर्मा)
झज्जर फिटनेस एसोसिएशन के सदस्य आज इंडियन नेशनल लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी से मिले और उनकी समस्या सरकार तक पहुंचने के लिए नफे सिंह राठी का हार्दिक आभार प्रकट किया। झज्जर फिटनेस एसोसिएशन के के सदस्य व जिम संचालकों सुनील जून, अमित राठी, विक्रम विक्र, सोनू जॉन, प्रदीप काजला, साहिल यादव, ओम रोहिल्ला, नवीन अंतिल, हैप्पी पांचाल, शिवपाल सैनी, अरुण कुमार, रविंद्र कुमार व कृष्ण लोहचब आदि ने कहा कि इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष नफे सिंह राठी ने जिम संचालकों की आवाज उठाई है और उनकी समस्या को सरकार तक पहुंचाया है। जिसके लिए उनका जिम संचालक धन्यवाद करते है। जिम संचालकों ने कहा कि कोरोना महामारी के इस दौर में यह बीमारी न फैले इसके लिए सामाजिक दूरी के साथ-साथ प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की आवश्यकता है और यह प्रतिरोधक क्षमता शरीर में खाने के साथ-साथ शारीरिक व्यायाम करके बढ़ाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि जहां सरकार ने सभी सार्वजनिक स्थलों को नियमों के साथ खोल दिया है वहीं सरकारी स्टेडियम व प्राइवेट जिम को बंद रखकर जनता के साथ अन्याय कर रही है। सरकार को चाहिए कि सामाजिक दूरी के नियमों के साथ सरकारी स्टेडियम व प्राइवेट जिम को खोल देना चाहिए ताकि प्रदेश की जनता वहां जाकर शारीरिक व्यायाम करके अपनी प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा सके और इस भयंकर बीमारी का शिकार होने से बच सके। जिम संचालकों ने कहा कि कोरोना संक्रमण से लडऩे के लिए व्यायाम प्रतिरोधिक क्षमता बढ़ाने का एक महत्वपूर्ण जरिया है तथा नियमों के तहत सभी जिम खुलने से लोग यहां आकर व्यायाम कर सकेंगे। साथ ही भयंकर आर्थिक तंगी का शिकार हो रहे इस व्यवसाय से जुड़े लोग दोबारा से उभर सकेंगे। उन्होंने कहा कि जिम संचालकों ने लगभग 20-20 लाख रुपये की लागत से जिम में मशीने लगा रखी है। लेकिन जिम अब बंद है तो उन्हें जिम की बंद भवन का किराया देना पड रहा है। जिससे उन पर आर्थिक मार पड रही है। सरकार को जिम संचालकों की आर्थिक हालात को ध्यान में रखते हुए जिमों को खोलने की अनुमति देनी चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।