महाशिव रात्रि के अवसर पर 19 जुलाई को मन्दिर खुलेगें समय किया गया निर्धारित प्रात: 5 बजे से रात्रि 10 बजे तक:-सीटीएम कपिल शर्मा।
July 18th, 2020 | Post by :- | 43 Views

अम्बाला: (अशोक शर्मा)
सीटीएम ने मन्दिरों के प्रबन्धक, समितियों के प्रतिनिधियों एवं धार्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में दी जानकारी।सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का पालन करना होगा श्रद्धालुओं को । सीटीएम कपिल शर्मा ने कहा कि कोविड-19 के खतरे को देखते हुए 19 जुलाई को महाशिव रात्रि के अवसर पर मन्दिरों के खुलने का समय हरियाणा सरकार द्वारा निर्धारित किया गया हैं। महाशिव रात्रि के अवसर पर मन्दिर सुबह 5 बजे से रात्रि 10 बजे तक खुले रहेगें। सीटीएम ने यह जानकारी मन्दिरों के प्रबन्धक, समितियों के प्रतिनिधियों एवं धार्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक में दी। उन्होंने कहा कि महाशिव रात्रि के अवसर पर मन्दिरों में भीड़ न उमड़े और सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का ध्यान रखा जाए। मन्दिर में आने वाले सभी श्रद्धालु मास्क पहनें और वहां पर तैनात मन्दिर कमेटी सदस्यों द्वारा भी मास्क का प्रयोग किया जाए तथा इसके अलावा श्रद्धालु अपने घर से ही मन्दिर में चढ़ाने के लिए बर्तन में जल लेकर आए। उन्होनें कहा कि सामुहिक प्रार्थना, आरती व सामुहिक सभा की अनुमति नहीं होगी, केवल व्यक्तिगत प्रार्थना की अनुमति होगी।
उन्होनें कहा कि सभी मन्दिरों के प्रतिनिधि यह सुनिश्चित करें कि कोविड-19 के खतरे को देखते हुए मन्दिरों में सभी व्यवस्थाएं सही प्रकार से हो तथा सैनिटाईजेशन किया जाए। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए यह बेहद आवश्यक है कि एक समय में मन्दिर में 5 से अधिक लोग न जाए। उन्होनें यह भी कहा कि जिन मन्दिरों में व्यवस्थाएं बनाए रखने के लिए पुलिस की मदद चाहिए वह भी उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके लिए मन्दिर कमेटी समय रहते प्रशासन के ध्यान में लाए। उल्लेखनीय है कि इस सम्बन्ध में हरियाणा सरकार के गृह, जेल, अपराधिक जांच और न्याय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन ने एक आदेश भी जारी किया हैं। बैठक में विभिन्न मन्दिरों के प्रतिनिधि व धार्मिक संस्थाओं के सदस्य एवं पदाधिकारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।