मॉडल स्कूल निर्माण के लिये बनी ड्राइंग, जल्द होगा टेंडर।
July 18th, 2020 | Post by :- | 109 Views

पंचकूला।(मनीषा)  राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भोज कोटी के प्रिंसीपल पवन जैन ने बताया है कि स्कूल जल्द ही संस्कृति मॉडल स्कूल बन जाएगा। स्कूल की बिल्डिंग के लिये ड्राइंग बन चुकी है और उसके बाद टेंडर होगा। पहले यहां पर एक परिवार खेती करता था, लेकिन कुछ समय पूर्व नींव डालकर निर्माण करने लगा था, लेकिन मैंने पुलिस को शिकायत देकर निर्माण रुकवा दिया। अब नींव से पत्थर निकालकर फिर से खेती करने लगा है। हमने निशानदेही के लिये तहसीलदार को लिख दिया है। दरअसल वीरवार को मोरनी के गांव चकहोह, चकहोली, टिक्कर भोज कोटी के ग्रामीणों ने पंचकूला के उपायुक्त से मुलाकात की और एक शामलात जमीन जोकि एक स्कूल के नाम पर पंचायत को प्रस्ताव पास करके दी गई है, उस पर अवैध कब्जा करने की शिकायत दी। देवेंद्र सिंह, खेम सिंह, भरत सिंह, रोहताश सहित अन्य जमीन हिस्सेदारों ने बताया कि सरकारी जमीन, जोकि सराकरी स्कूल के लिए रिजर्व की गई है, पर कुछ लोगों द्वारा नाजायज कब्जा करने की कोशिश की जा रही है और रोकने पर लड़ाई झगड़ा एवं गाली गलौच करने और जान से मारने की धमकी देने लगते हैं। गांव कोटी बड़ीशेर में एक सरकारी स्कूल बना हुआ है, जिसमें आसपास के गांव के लगभग 40-50 गांवों के 300-350 विद्यार्थी पदने के लिए आते हैं।विद्यालय के आसपास 15 किलोमीटर के दायरे में कोई अन्य स्कूल नहीं है। गांव के गणमान्य लोगों ने सरकार द्वारा शुरू किये गए अभियान के तहत उक्त स्कूल को मॉडल संस्कृति स्कूल बनाने के लिए 10 बीधा जमीन स्कूल को दान में दे दी है। जिसका इन्द्राज अभी रेवेन्यू रिकॉर्ड में नहीं हो पाई है और सरकार की तरफ से इस संबंध में लगभग 2 करोड़ 7 लाख रुपये की ग्रांट जारी की गई थी। देवेंद्र सिंह, खेम सिंह, भरत सिंह, रोहताश ने कहा कि गांव के कुछ लोग सरकारी जमीन जोकि स्कूल के लिए रिज़र्व रखी हुई है, उसके ऊपर नाजायज़ रूप से निर्माण करने की कोशिश कर रहे हैं। अदालत में भी इन्होंने केस डाला था, जिस पर अदालत ने स्टे नहीं दिया। इसलिये पुलिस एवं प्रशासन द्वारा मामले में हस्ताक्षेप करके संस्कृति स्कूल का निर्माण तुरंत करवाया जाए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।