सांसदों, विधायकों व ग्राम प्रधानों से भी की अपील – ऊर्जा मंत्री ने की विभागीय समीक्षा
July 16th, 2020 | Post by :- | 42 Views

मथुरा,(राजकुमार गुप्ता)ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री पं. श्रीकान्त शर्मा ने बुधवार को ऊर्जा विभाग की समीक्षा के दौरान प्रदेश के हर जिले में सर्वाधिक लाइन लॉस वाले सभी फीडरों का लाइन लॉस 15% से नीचे लाने का लक्ष्य तय किया और इसके लिये समय सीमा निर्धारित की है। उन्होंने चरणबद्ध तरीक़े से डिसकॉम्स और विजिलेंस विंग को हर तीन महीने में 60 फ़ीडर्स का एटीएंडसी लॉस 15 फीसदी से कम लाने के निर्देश दिये।

इनमें 30 फीडर संबंधित डिस्कॉम के अधिकारी व अन्य 30 फीडर का जिम्मा विजिलेंस विंग के पास रहेगा।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सरकार 15% से कम लाइन हानियों वाले फीडरों पर 24 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति की योजना पर काम कर रही है। ऐसे में सभी को मिलकर इस अभियान से जुड़ना होगा। कहा कि सांसदों, विधायकों व ग्राम प्रधानों को भी इस महत्वाकांक्षी योजना का हिस्सा बनाया गया है। सभी मिलकर 24 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति का संकल्प पूरा करेंगे।

उन्होंने निर्देशित किया कि जिन भी क्षेत्रों में लाइन लॉस 15% से कम है वहां के निवासियों को यह महसूस हो कि वह वीआईपी क्षेत्र में निवास करते हैं। ऐसे क्षेत्रों में उपभोक्ता सेवाओं और शिकायतों का निस्तारण न्यूनतम समय में किया जाए। ऐसे क्षेत्रों में उपभोक्ता सुविधाओं को भी बढ़ाया जाए।

उन्होंने निर्देश दिया कि यूपीपीसीएल अध्यक्ष व डीजी विजिलेंस इस संबंध में डिस्कॉम व जिलावार कार्ययोजना बनाकर अभी से काम शुरू कर दें। 90 दिनों के भीतर वृहद परिवर्तन दिखना चाहिए। उन्होंने सभी डिस्कॉम प्रबंध निदेशकों को भी निर्देशित किया कि वह तय किये गए लक्ष्य का नियमित स्तर पर अनुश्रवण करें। लापरवाह अधिकारियों की जवाबदेही भी सुनिश्चित करें।

कहा कि सरकार सभी प्रदेशवासियों को सस्ती और निर्बाध विद्युत आपूर्ति के लिए संकल्पित है। इसके लिये बिजली चोरी पर अंकुश और समय से बिल भरा जाना आवश्यक है। इसके लिये जनसहयोग आवश्यक है। उन्होंने सांसदों, विधायकों, ग्राम प्रधानों व अन्य जनप्रतिनिधियों से भी अपील की है कि वह अपने क्षेत्र में लाइन हानियों को कम कराने में मदद करें। सांसद व विधायकगण फीडरों को गोद लें और मानक स्थापित करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।