वित्तायुक्त राजस्व विजय वर्धन ने वीसी के माध्यम से राजस्व रिकॉर्ड, लाल डोरा मुक्त योजना तथा कोरोना फंड को लेकर उपायुक्तों के साथ की समीक्षा
July 15th, 2020 | Post by :- | 35 Views

कैथल( विशाल चौधरी )वित्तायुक्तराजस्व विजय वर्धन ने बुधवार को चंडीगढ़ से वीसी के माध्यम से राजस्व रिकॉर्ड, लाल डोरा मुक्त योजना तथा कोरोना फंड को लेकर उपायुक्तों के साथ समीक्षा की और उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। वित्तायुक्त विजय वर्धन ने कहा कि पंचायती राज मंत्रालय भारत सरकार की स्वामित्व स्कीम के अंतर्गत हरियाणा सरकार प्रदेश के गांवों को लाल डोरा मुक्त बनाने के लिए प्राथमिकता के आधार पर कार्य कर रही है। सरकार का प्रयास है कि उक्त योजना के अंतर्गत प्रत्येक जिले के दस-दस गांवों को लाल डोरा मुक्त बनाकर आगामी 2 अक्तूबर को संबंधित व्यक्ति को उनकी जमीन का मालिकाना हक की डीड सौंपा जाना प्रस्तावित है। सर्वे ऑफ इंडिया की टीम द्वारा ड्रोन कैमरे से गांवों की मैपिंग का कार्य किया जाना है। उन्होंने राजस्व रिकॉर्ड को लेकर उपायुक्तों को निर्देश दिए कि अपने-अपने जिला से संबंधित राजस्व रिकॉर्ड को सुरक्षित स्थान यानी रिकॉर्ड रूम में स्थापित करवाएं। डिजीटलीकरण के तहत जमीन से जुड़े सभी दस्तावेज ऑनलाईन होने के साथ-साथ स्कैन करके रिकॉर्ड रूम में सुरक्षित रखा जाना है। जिन्होंने अब तक राजस्व रिकार्ड के लिए रिकॉर्ड रूम की व्यवस्था नहीं की है वे जल्द से जल्द इसका प्रबंध करवाएं। उन्होंने कोरोना फंड के प्रयोग को लेकर भी उपायुक्तों के साथ चर्चा की और कहा कि भारत सरकार की हिदायतों के अनुसार ही कोरोना फंड का प्रयोग किया जाना है। वीडियो कॉन्फे्रसिंग में उपायुक्त सुजान सिंह ने बताया कि जिला के पांच गांवों का इस स्कीम में चयन पहले किया जा चुका है, जिनमें गांव फर्शमाजरा, अटैला, मांझला, गढ़ी पाड़ला, बाबालदाना, शामिल है। इन सभी गांवों को लाल डोरा मुक्त बनाने की प्रक्रिया जल्द जारी होगी। इन गांवों में ड्रोन मैपिंग का कार्य भी जल्द आरम्भ करवाया जाएगा। अतिरिक्त रिकार्ड रूम बनाने की प्रक्रिया चल रही है। दस्तावेजों को स्कैनिंग करने का कार्य भी चल रहा है। 2018-19 की ऑनलाईन जमाबंदी पूरी है तथा 2019-20 की आगामी 20 अगस्त तक ऑनलाईन जमाबंदी कर ली जाएगी। इस मौके पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी जसविंद्र डीआरओ सुरेश कुमार, डीआईओ दीपक खुराना मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।