19 विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद गहलोत की सरकार बचेगी या नहीं के सबाल पर टिकी है नजरे सबकी
July 15th, 2020 | Post by :- | 53 Views

भरतपुर  ( शौकत अली )

राजस्थान में सियासी विद्रोह के बीच 19 विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद गहलोत की सरकार बचेगी या नहीं के सबाल पर टिकी है नजरे सबकी। 19 बागी विधायकों की सदस्यता समाप्त करने का अधिकार है विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी के पास तो बहुमत साबित करने के लिए विधानसभा सत्र बुलाने का अधिकार है राज्यपाल के पास। ऐसे में समीकरण बनेंगे या बिगड़ेंगे इसका इंतजार है सबको। अगर 19 विधायकों की सदस्यता होती है खत्म तब सदन में विधायकों की संख्या रह जाएगी 181 और बहुमत साबित करने का आंकड़ा रह जाएगा 91, ऐसे में अगर गहलोत खेमे से कुछ विधायक टूट भी गए तो वह कर सकते हैं बहुमत साबित लेकिन राज्यपाल बिगाड़ सकते है कांग्रेस का खेल। 19 बागी विधायकों की सदस्यता समाप्त करने के संभावित स्पीकर के फैसले के बाद राज्यपाल महोदय ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने के बीच यदि दे दिया थोड़ा सा भी समय तो सदस्यता गंवाने वाले विधायक फ्लोर टेस्ट में शामिल होने की इजाजत के साथ कोर्ट से ला सकते है स्टे जिससे गहलोत सरकार आ सकती है मुश्किल में। कुल मिला कर विधानसभा अध्यक्ष ब राज्यपाल महोदय के कदमो पर निर्भर है अब सब कुछ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।