लाल डोरे के अन्दर आने वाले गांवों के मकानों और प्लाटो को लेकर चण्डीगढ़ से आयोजित की गई वीडियो कान्फ्रेंसिंग।
July 15th, 2020 | Post by :- | 35 Views

अम्बाला: (अशोक शर्मा)
चण्डीगढ़ से आयोजित वीडियों कान्फ्रेंसिंग में एफसीआर विजय वर्धन ने बुधवार प्रदेशभर के उपायुक्तों से मोडलाईजेशन रिकार्ड रूम के तहत चल रहे कार्य व लाल डोरे के अंदर आने वाले गांव के मकान व प्लाट के कार्य से सम्बधित विषय पर विस्तार से चर्चा करते हुए इन विषयों बारे उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि इस विषय को लेकर मुख्यमंत्री हरियाणा 21 जुलाई को समीक्षा बैठक भी करेंगे। इसलिए इस विषय से सम्बन्धित कार्यों में तेजी लाई जाये।
वीसी की अध्यक्षता करते हुए एफसीआर विजय वर्धन ने मोडलाईजेशन रिकार्ड रूम के तहत किए जाने वाले कार्यों के साथ-साथ सर्वे संबधी कार्य बारे भी जानकारी लेते हुए समीक्षा की। उन्होंने बताया कि लाल डोरे के अंदर आने वाले गांवों के मकान व प्लाट का उन्हें अधिकार सम्बधी सुनिश्चितता मिल सके, इसके लिए सर्वे करवाते हुए औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल 2 अक्तूबर को ऐसे ग्रामीणों को उनके स्वामीत्व का अधिकार देकर उन्हें रजिस्टरी देने का काम करेंगे। इसी कार्य के तहत सर्वे करवाने का काम किया जा रहा है। उपायुक्त ने एफसीआर को अवगत करवाया कि निर्धारित लक्ष्य के तहत 5 गांवो का सर्वे किया जा चुका है और 6 अन्य गांवों का सर्वे जल्द पूरा करते हुए उसकी रिपोर्ट भी मुख्यालय को भिजवाई जायेगी ताकि लाल डोरे के अंदर आने वाले ग्रामीणों को उनका जमीन संबधी अधिकार सुनिश्चित हो सके और वे इस कार्य का लाभ उठा सकें।
उन्होंने यह भी बताया कि ऑनलाईन जमाबंदियों से सम्बन्धित कार्य को भी किया जा रहा है। जिला में सर्वे से सम्बन्धित कोई भी समस्या नहीं है, वीसी में जो आवश्यक दिशा-निर्देश मिले हैं उनकी अनुपालना के तहत कार्य करवाया जायेगा। वीसी को देखने और सुनने के उपरांत उपायुक्त ने सम्बन्धित अधिकारियों को इन कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने डीआरओ और डीडीपीओ को कहा कि वे बेहतर समन्वय के साथ इस कार्य को करवाना सुनिश्चित करें। इस मौके पर डीडीपीओ रेणू जैन, डीआरओ कैप्टन विनोद शर्मा सहित अन्य मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।