पंचायत उलेहडिया की अनदेखी से नरकीय जीबन जीने को मजबूर है बार्ड नंबर 7 के लोग
July 15th, 2020 | Post by :- | 148 Views
गगन ललगोत्रा (व्यूरो कांगड़ा)
लोगो बोले कोरोना से तो बच रहे है पर इस गंदगी से कैसे बचे
यहाँ हिमाचल सरकार पंचायतों में विकास कार्यो हेतू लाखों रुपए दे रही है ताकि गाँवो को सुंदर बनाया जा सके। पंचायतों में पर्याप्त बजट होने के बाबजूद की कई पंचायते बिकास कार्यो को करवाने में अपनी रुचि नही दिखा रही है जिसका खमियाजा पंचायत के निवासियों को भुगतना पड़ रहा है । ऐसा ही एक मामला बिकास खंड इन्दौरा के अधीन पड़ती ग्राम पंचायत उलेहडिया में देखने को मिला है।यहाँ पर्याप्त बजट होने के बाबजूद भी वर्षो से बार्ड नंबर 7 एससी मुहल्ले की गली को आज तक बनाया नही गया है। मुहल्ले के निवासी रमेश चंद,इंदर सिंह,जय देव ,चमन लाल आदि ने बताया के आज से 20 वर्ष पहले संसद चंद्र कुमार के कार्यकाल में इस गली का निर्माण हुआ था। अब इस गली की हालात इतनी खराब हो चुकी है के इस पर पैदल चलना मुश्किल हो गया है पुरी गली में घरो ओर नालियों का गंदा पानी इकठा हुआ रहता है और गन्दा पानी लोगो के घरों में जा रहा है। घरो में जाने के लिए चप्पले ओर बूट उतार कर हाथो में पकड़कर जाना पड़ता है। मुहल्ले के निवासीयो ने बताया के गली में इतनी बदबू फैली हुई है के इससे कोई भी बीमारी उत्पन होकर लोगो को अपनी चपेट में ले सकती है। उन्होंने कहा के कोरोना से तो बच रहे है पर इस कीचड़ से फैलने बाली बीमारी से कौन बचाए। उन्होंने कहा के कई बार पंचायत प्रतिनिधियों को इस गली के निर्माण करने के लिए कह चुके है और पांच वर्षों से बो यही कहते आ रहे है के अपनी गली का काम लगा रहे है । पर आज तक अश्वाशन ही मिले है गली का निर्माण कार्य शुरू नही हुआ है।लोगो ने कहा के शायद पंचायत प्रतिनिधि भी इस गंदगी से लोगो को बीमार होने का इंतजार कर रहे है । उन्होंने कहा के पंचायत की अनदेखी से ही आज हमे  नरकीय जीवन जीने को मजबूर होना पड़ रहा है।

इस संबंध में जब उलेहडिया पंचायत के उपप्रधान परमजीत पम्मी से बात की गई तो उन्होंने बताया के इस गली को सेल्फ में डाला गया था और जितनी राशि मंजूर की गई थी इस राशि से इस पूरी गली का निर्माण होने अशाम्भब था। अब गली के निर्माण के पूरे खर्चे का हिसाब लगाकर इस गली को सेल्फ में डाला गया है और जल्द ही बढ़िया ढंग से इस गली का निर्माण किया जाएगा

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।