गांव मेहरबानपुरा में छप्पड़ की।सफ़ाई को लेकर ,सरपँच और गांव निवासियों के बीच हुई तीखी तक़रार ,मौके पर पहुंची पुलिस ।
July 14th, 2020 | Post by :- | 225 Views
गांव मेहरबानपुरा में छप्पड़ की सफ़ाई को लेकर ,गांव निवासियों और सरपंच के बीच हुई तीखी तक़रार ।

मौके पर पहुंची पुलिस ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
ब्लाक जंडियाला गुरु के अंतर्गत आते गांव मेहरबानपुरा में गांव के सरपंच अमर सिंह जोगी द्वारा छप्पड़ की सफ़ाई कराई जा रही है ।वहीं यह मामला तूल पकड़ता हुआ नजर आ रहा है क्योंकि कुछ लोगों के छप्पड़ के किनारे घर भी है ।जिनके पास से सरपँच द्वारा पौधे उखाड़ कर मकानों को गिराए जाने की कोशिश की जा रही है ।पत्रकार से बातचीत करते हुए गांव मेहरबानपुरा के सरपंच ने कहा कि इस गांव के छप्पड़ की सफ़ाई लंबे समय से नही हुई थी ।
जबकि छप्पड़ में सफाई ना होने के कारण गाद भरी हुई थी जिसे अब साफ कराया जा रहा है और छप्पड़ के आसपास कब्ज़े भी हटाये जा रहें हैं।
जबकि गांव वालों कहना है कि उनकी रिहायश कई वर्षों से छप्पड़ के पास बनी हुई है और इनमे एक मकान मालिक को कोर्ट से सटे मिला हुआ है ।उन्होंने कहा कि छप्पड़ की खुदाई से पहले सरपंच को माल विभाग से रिकॉर्ड लेकर निशानदेही करनी चाहिए थी। फिर छप्पड़ की खुदाई का काम करना चाहिए था लेकिन सरपँच ने ऐसा ना कर छप्पड़ के किनारे लगे कुछ पेड़ों को उखाड़ दिया गया जो कि वातारण नियमों की अवहेलना है।
इसी तरह वहाँ मौजूद पंचायत अधिकारी रणजीत सिंह ने भी इस मामले में कुछ भी कहना से मना कर दिया ,उन्होंने कहा कि उनको खुद यह जानकारी नही कि छप्पड़ का कुल रकबा कितना है ?
क्योंकि यदि उनको पूर्ण रूप से रकबे के बारे जानकारी नही होने के चलते उनके लिए यह बताना मुश्किल है किसने अवैध कब्जा किया हुआ है।
वही नानक सिंह निवासी मेहरबानपुरा ने सरपंच पर आरोप लगाते हुए कहा कि गांव के छप्पड़ की अवैध रूप से खुदाई की जा रही है ।उन्होंने कहा कि गांव के दूसरे छप्पड़ में भी कुछ समय पहले खुदाई के दौरान दो बच्चे मर गए थे ।उन्होंने माइनिंग विभाग से इस मामले की जांच की मांग की है ।
गांव सरपंच ने  आरोपों को सिरे से नकारते हुए कहा कि वह गांव के छप्पड़ की सफाई पंजाब सरकार के दिशा निर्देशों अनुसार ही कर रहें हैं ।इस मामले से सबंधित  उन्होंने ने पंचायत मता भी पास किया है ।
जबकि वहां पर मौजूद पुलिस कर्मी कोई भी स्पष्ट जवाब नही दे पाया है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।