अड़बर पंचायत के गांव आजादपुर में आजादी के बाद अभी तक गांव में एक भी पक्का रास्ता नहीं बना
July 13th, 2020 | Post by :- | 22 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । प्रदेश सरकार भले ही सबका साथ सबका विकास की बात कर रही है, लेकिन विकास के मामले में यह बात नूंह खंड के गांव आजादपुर पर सही साबित नहीं बैठ रही है। जिसका अंदाजा गांव के लोगों को मिल रही मूलभूत सुविधाओं से लगाया जा सकता है। बिजली, पानी व सडक़ सहित अन्य क्षेत्रों में गांव विकास के मामलों में लगातार पिछड़ रहा है। लेकिन ग्रामीणों की इन समस्याओं पर कोई ध्यान देने वाला नहीं है। बता दें, कि अड़बर पंचायत के गांव आजादपुर में आजादी के बाद अभी तक गांव में एक भी पक्का रास्ता नहीं बना है। जिससे ग्रामीणों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इस बारे में ग्रामीणों ने अपने स्तर पर जिला प्रशासन सहित स्थानीय नेताओं को कई बार अवगत कराया है। लेकिन अभी तक ग्रामीणों की इस मांग पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया है। जिस कारण ग्रामीणों में प्रशासन के प्रति भारी रोष पनप रहा है। ग्रामीण हनीफ, सुबान खां, जुबैर, मुहर खां, खुर्शीद, आकूब, जमशेद, साजिद, साहून, शरीफ मोहम्मद, आसू, सब्बीर, अशरफ व इमरान ने बताया कि उनके गांव को यहां पर बसे 15 वर्ष हो चुके हैं। लेकिन गांव में मूलभूत सुविधाओं का घोर अभाव है। ऐसे में वह आज भी अभावों में जी रहे हैं। हल्की सी बरसात होने पर उन्हें घरों से निकलना मुश्किल हो जाता है। ग्रामीणों को दैनिक कार्यों के अलावा बच्चों के स्कूल जाने, युवा व बुजुर्गों के नमाज अता करने सहित कई तरह की समस्या से जूझ रहे हैं। जिस कारण कई बार बुजुर्ग चोटिल हो चुके हैं। भविष्य में किसी बड़े हादसे की आशंका से भी इंकार नहीं किया जा सकता। ऐसे में ग्रामीणों ने उपायुक्त से मांग की उनकी इस समस्या का जल्द से जल्द समाधान कराया जाए। जिससे उन्हें राहत मिल सके। वहीं इस बारे में नूंह एसडीएम प्रदीप अहलावत ने कहा कि गांव की इस समस्या का प्राथमिकता के साथ समाधान कराया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।