राष्ट्रीय परशुराम सेना जिला कार्यकारिणी का सम्मान समारोह
July 12th, 2020 | Post by :- | 26 Views

कुशलगढ़ बांसवाड़ा अरुण जोशी 12 जुलाई 2020 रविवार को सुंदनपुर गांव स्थित नीलकंठेश्वर महादेव मंदिर परिसर में राष्ट्रीय परशुराम सेना जिला कार्यकारिणी का सम्मान समारोह एवं स्नेह भोज रखा गया जिसमें कार्यक्रम की अध्यक्षता संगठन के प्रदेश महामंत्री जमनालाल जी भट्ट, मुख्य अतिथि वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष नीतीश कोशिक, विशिष्ट अतिथि प्रदेश महासचिव महिला मोर्चा प्रगति उपाध्याय तथा अति विशिष्ट अतिथि जिला अध्यक्ष ललित जी द्विवेदी, डूंगरपुर जिला अध्यक्ष सुरेश जी भट्ट तथा महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष लीना ठाकुर थी।

कार्यक्रम में संगठन की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए नीतीश कौशिक ने बताया यदि हम एक साथ संगठित होकर के कार्य करेंगे तथा सकारात्मक ऊर्जा के साथ कार्य करेंगे तो किसी भी कार्य क्षेत्र में हमसफर हो जाएंगे हमारे अंदर समाज का कार्य करने के लिए समय का त्याग बहुत जरूरी है, साथ ही जिला संगठन मंत्री बृजेश जोशी ने युवा पीढ़ी को संस्कारवान बनाने की बात कही।
कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि प्रगति जी उपाध्याय लीना जी ठाकुर, रागिनी भट्ट, फाल्गुनी पंड्या तथा अनुराधा जी उपाध्याय ने संगठन की मजबूती के लिए महिलाओं की भूमिका पर जोर दिया ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए आदरणीय जमनालाल जी भट्ट साहब ने सभी पदाधिकारियों को मार्गदर्शन दिया की संगठन का कार्य करने में कोई छोटा और कोई बड़ा नहीं होता है तथा सभी को संगठित होकर के कार्य करना पड़ता है।
कार्यक्रम के प्रारंभ में सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए जिलाध्यक्ष ललित जी द्विवेदी ने संगठित होकर संगठन को मजबूती प्रदान करने तथा सदस्यता अभियान चला कर प्रत्येक परिवार को जोड़ने की बात कही। कार्यक्रम का संचालन महासचिव पियूष रावल ने तथा आभार जिला उपाध्यक्ष नवीन उपाध्याय ने व्यक्त किया।
कार्यक्रम में प्रमोद जी भट्ट, प्रमोद कौशिक, प्रहलाद त्रिवेदी, हिमांशु भट्ट, शैलेंद्र रावल, तरुणा पंड्या, साधना शर्मा, प्रजेश रावल, हितेश डी भट्ट, विपिन मेहता,खयाल पंड्या,विनय भट्ट, संजय भट्ट आदि पदाधिकारियों का सम्मान किया गया।संगठन के सभी पदाधिकारियों द्वारा मंदिर परिसर में वृक्षारोपण कार्य भी किया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।