सामाजिक कार्यकर्ताओं ने शहीद स्मारक स्थल की साफ सफाई की
July 12th, 2020 | Post by :- | 47 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
* सामाजिक कार्यकर्ता बोले, अधिकारी शहीद स्मारक स्थल की नियमित सफाई के लिए सफाई कर्मचारी की ड्यूटी लगाए
*- साफ सफाई के दौरान मोके पर मिली शराब की खाली बोतले व नशे में इस्तेमाल की गई खाली सिरिंज
बहादुरगढ़। शहर के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय राजमार्ग सिथत शहीद स्मारक पर जाकर स्मारक स्थल की साफ – सफाई की। साफ सफाई करने के बाद सभी सामाजिक कार्यकर्ताओं वीर शहीदों को नमन किया व वीर शहीद अमर रहे .. के जयकारे लगाए। शहीद स्मारक स्थल की साफ सफाई करने के उपरांत सामाजिक कार्यकर्ता यशपाल हिंदुस्तानी  व प्रदीप गुप्ता ने कहा कि हमे शहीदों का सम्मान करते हुए शहीद स्मारक स्थल पर हमेशा साफ सफाई रखनी चाहिए। यशपाल हिंदुस्तानी ने कहा कि एसडीएम बहादुरगढ़ व नगर परिषद बहादुरगढ़ के अधिकारियों को चाहिए कि शहीद स्मारक स्थल की नियमित सफाई के लिए सफाई कर्मचारी की ड्यूटी लगाए ताकि सफाई के अभाव में शहीद स्मारक स्थल पर कूड़ा न बिखरा रहे। यशपाल हिंदुस्तानी व प्रदीप गुप्ता ने बताया कि सफाई के दौरान शहीद स्मारक स्थल पर नशे के लिए इस्तेमाल की गई खाली सिरिंज व शराब की खाली बोतले , गिलास भी काफी मात्रा में मिली जिससे पता चलता है कि शहीद स्मारक स्थल पर आकर कुछ लोग नशा करते है जो कि बहुत ही निंदनीय कार्य है। प्रदीप गुप्ता ने कहा कि आज का युवा यह भुलता जा रहा है कि हमे आजाद कराने में  शहीदों ने अपना सब कुछ देश पर कुर्बान कर दिया था व आजादी के बाद भी किस तरह हमारे वीर शहीद सैनिकों की वजह से आज हम देश के अंदर सुरक्षित है। विजय स्वामी, अजय स्वामी, हरीश शर्मा, नीरज गौतम, नीरज मलिक, कुलदीप वत्स, सागर स्वामी, रवि कौशिक, दीपक गुप्ता, धरबीर स्वामी  व कपिल हिंदुस्तानी आदि युवाओं की टीम ने शहीद स्मारक स्थल पर चलाए गए सफाई अभियान में हिस्सा लिया व प्रशाशन से शहीद स्मारक स्थल की नियमित सफाई के लिए सफाई कर्मचारी की ड्यूटी लगाने की मांग की।
फ़ोटो :- शहीद स्मारक स्थल की सफाई करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता।
फोटो :- सफाई अभियान के दौरान मिली नशे हेतु इस्तेमाल की गई सिरिंज दिखाते हुए सामाजिक कार्यकर्ता।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।