रोटरी क्लब पलवल सिटी ने लगाए हर्बल व छायादार पौधे|
July 12th, 2020 | Post by :- | 55 Views

चौ० हीरालाल स्कूल में पौधारोपण के बाद गत वर्ष लगाए पौधों के फलों का स्वाद भी चखा,

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 12  जुलाई :- रोटरी क्लब पलवल सिटी की ओर से रविवार को चौ० हीरालाल मैमोरियल पब्लिक स्कूल छज्जूनगर के प्रांगण में औषधिय, फल व छायादार पौधों लगाए। इसके अलावा गत वर्ष लगाए गए पौधों के फल भी चखे। पौधारोपण कार्यक्रम का नेतृत्व रोटरी क्लब के प्रधान नरेंद्र बैंसला ने किया और अध्यक्षता स्कूल के चेयरमैन धर्मवीर चौहान ने की।

प्रधान नरेंद्र बैंसला ने कहा कि जिस पौधे को अपने हाथों से लगाते है और फिर एक वर्ष बाद उसका फल खाते है तो फल खट्टा होने के बाद भी मीठा लगता है, क्योंकि उस पेड़ को लगाने के बाद उसका लालन-पालन करने के बाद उसका फल चखा जाता है। क्लब के सदस्यों ने गत वर्ष इसी स्कूल के हर्बल पार्क में पौधा रोपण किया था, जिसमें अंजीर, आम व नीबू आदि के पौधे लगाए थे। जिनमें इस बार जब पौधा रोपण करने पहुंचे तो फल लगा हुआ था।

क्लब के प्रधान नरेंद्र बैंसला व कंवर कुलदीप सिंह ने बताया कि पार्क में हर्बल के पौधे तैयार होने के बाद उसमें घुमने मात्र से ही कई बीमारियों को भगाया जा सकता है। स्कूल के चेयरमैन धर्मबीर चौहान ने बताया कि पार्क लगभग तैयार हो चुका है, रोटरी क्लब पलवल सिटी की ओर से वर्ष 2019 में जो पौधे इस हर्बल पार्क में लगाए गए थे वे औषधि के अलावा फल भी दे रहे है। इस पार्क के तैयार होने से स्कूल व इंस्ट्रीट्यूट में पढऩे वाले विद्यार्थियों को तो लाभ मिलेगा ही, बल्कि अन्य आने वालों को भी इसका फायदा होगा। पौधारोपण कार्यक्रम में प्ले स्कूल के चेयरमैन सागर चौहान ने कहा कि पर्यावरण संतुलन के लिए पौधारोपण जरूरी है। पृथ्वी पर बढ़ते ताप का एक मात्र कारण वनों, वृक्षों का सुरक्षित नहीं रहना है।

क्लब के सदस्य नीरज गुप्ता, संजय तायल, अनिल गोसाई, संदीप आगई, कुसुम गौर, ऊषा बैंसला व शिक्षा डागर उन्होंने कहा कि पौधारोपण एक पुनीत कार्य है, इसके लिए सभी को आगे आना चाहिए। पौधारोपण कार्यक्रम के प्रोजैक्ट चेयरमैन भगत सिंह डागर व शिक्षा डागर थे। पौधारोपण कार्यक्रम के अंत में स्कूल के चेयरमैन धर्मबीर चौहान व भगत सिंह डागर को पौधे भेंट कर सम्मानित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।