दहेज लोभियों ने बहु की ली जान
July 9th, 2020 | Post by :- | 43 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  दहेज दानव की वजह से अब एक विवाहिता इस दुनिया में नहीं है। इतना ही नहीं उसकी छोटी बहन दहेज की डिमांड पूरी नहीं कर पाने की वजह से पिछले कई साल से अपने मायके में है । हद तो तब हो गई जब दहेज की डिमांड पूरी नहीं करने के कारण मायके में ही छोटी बहन ने बेटे को जन्म दिया । दहेज के लोभी बेटे को तो ले जाने की बात करते हैं , लेकिन बहू को ले जाने की हां तक नहीं करते । मामला नूह जिले के पुनहाना शहर का है। प्राप्त जानकारी के अनुसार नूह शहर के गोविंद राम ने अपने बेटी रजनी की शादी पुनहाना शहर के प्रेम साहू के साथ हिंदू रीति रिवाज अनुसार की थी। अपनी हैसियत के हिसाब से दहेज भी दिया था । तकरीबन 9 साल पहले रजनी की शादी हुई और उसके 3 साल बाद उसी घर में उसके देवर पंकज के साथ उसकी छोटी बहन ममता की भी शादी कर दी गई । पीड़ित पक्ष के लोगों का आरोप है कि दहेज की वजह से ससुराल पक्ष के लोग छोटी बहू ममता के साथ मारपीट करते थे। उसके बाद बड़ी बहन रजनी के साथ भी झगड़ा बढ़ गया । इसी विवाद की वजह से छोटी बहन ममता पिछले करीब डेढ़ साल से अपने मायके में हैं और इसी दौरान उसने एक बेटे को भी जन्म दिया । छोटी बहन दहेज लोभियों की वजह से अपने मायके में थी और बड़ी बहन ससुराल पक्ष के लोगों के ताने व जुल्म ससुराल में रहते हुए सह रही थी । आखिरकार दहेज लोभियों ने बुधवार देर शाम उसकी जान ले ली । मायके पक्ष के लोगों का आरोप है कि मृतक रजनी के शरीर व गले पर चोट के निशान हैं । ससुराल पक्ष के लोगों ने पीट पीटकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अल आफ़िया सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा से पोस्टमार्टम कराकर परिजनों के हवाले कर दिया है । हत्या करने का आरोप ससुराल पक्ष के तकरीबन दर्जन भर लोगों पर लग रहा है । पुनहाना पुलिस मामले की तहकीकात में जुट गई है , लेकिन मीडिया के सामने कुछ भी कहने से पुलिस बच रही है । दहेज लोभी बहू की जान लेने के बाद फरार बताए जा रहे हैं। मौत के असली कारणों का तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने तथा पुलिस जांच के बाद ही पता चल पाएगा ।लेकिन दहेज दानव की वजह से अब एक विवाहिता दुनिया में नहीं है और अपनी दो मासूम बेटियों को जमाने की ठोकरों में छोड़कर चली गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।