डंपिंग स्टेशन को लेकर हुई पंचायत
July 9th, 2020 | Post by :- | 28 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  गुरुग्राम जिले के कचरा को नूह जिले के कौराली गांव की भूमि में डालने का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। गुरुवार को दर्जन भर से अधिक गांव के मौजिज लोगों ने कौराली गांव स्थित आरोही स्कूल में पंचायत कर 11 सदस्य कमेटी का गठन किया है ।कमेटी शुक्रवार को डीसी पंकज नूह को ज्ञापन सौंपकर गुरुग्राम की कंपनी द्वारा मलबा डालने को लेकर कराए गए एग्रीमेंट को रद्द करने की मांग करेगी। कुल मिलाकर अब स्थानीय नेताओं के साथ – साथ दर्जनों गांव के मौजिज लोग डंपिंग स्टेशन के खिलाफ मैदान में उतर गए हैं । गुरुवार को कौराली गांव में हुई पंचायत में सरपंच , पंच , नंबरदार , जिला परिषद , पंचायत समिति सदस्य सहित क्षेत्र के गणमान्य लोगों ने भाग लिया । लोगों ने पंचायत के दौरान दो टूक कहा की गुरुग्राम की एक कंपनी ने कौराली गांव की भूमि में मलबा डालने को लेकर कुछ किसानों से एग्रीमेंट कराया था और कहा था कि यहां पर प्लांट लगाया जाएगा , जिससे इलाके के बेरोजगार लोगों को रोजगार मिलेगा । किसानों ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि मलबे के बजाय यहां कूड़ा करकट डाला जा रहा है , जिससे ना केवल इलाका दूषित होगा। बल्कि आसपास के गांव में इस कचरे की वजह से बीमारियां बढ़ना भी लाजमी है । पंचायत में पहुंचे लोगों ने कहा कि किसानों के साथ सरासर धोखाधड़ी की गई है। मलबा डालने के बजाय उनकी भूमि में कचरा डाला जा रहा है। इसे वे कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि 11 सदस्य कमेटी का गठन कर लिया गया है , जो इस मामले में आगामी कार्रवाई करेगी । सबसे पहले डीसी नूह पंकज से मुलाकात कर स्थिति से अवगत कराया जाएगा और उन्हें एग्रीमेंट रद्द करने के मामले को लेकर एक ज्ञापन भी सौंपा जाएगा । आपको बता दें कि इससे पहले स्थानीय विधायक आफताब अहमद कांग्रेस कह चुके हैं कि वे अपने विधानसभा क्षेत्र में कचरा किसी सूरत में भी नहीं डालने देंगे । इससे ना केवल वातावरण दूषित होगा , बल्कि लोगों के स्वास्थ्य पर भी इसका असर पड़ेगा । अगर सरकार इलाके का चाहती है , तो यहां कोई विश्वविद्यालय या कोई बड़ी परियोजना दे ।कुल मिलाकर बड़ी पंचायत के बाद अब छोटी पंचायत भी कचरा प्रबंधन मामले के खिलाफ मैदान में उतर आई है । आने वाले समय में अगर कचरा डालने का एग्रीमेंट रद्द नहीं किया तो इसके खिलाफ बड़ी संख्या में इलाके के लोग लामबंद हो सकते हैं । अब देखना यह है कि कचरा डालने के मामले में जिला प्रशासन व हरियाणा सरकार का क्या स्टैंड होता है , लेकिन फिलहाल कूड़ा डालने को लेकर राजनीति पूरी तरह से गरम है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।