आदिवासी विकास सेवा संस्थान ने जाति प्रमाण पत्र की मांग को लेकर एसडीएम को सौपा ज्ञापन
July 9th, 2020 | Post by :- | 142 Views

महराजगंज, आदिवासी विकास सेवा संस्थान उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में गुरुवार को तहसील अध्यक्ष बनवारी गोंड ने धुरिया गोंड जाति के लोगो की जाति प्रमाण पत्र बनाने की मांग को लेकर फरेन्दा एसडीएम को ज्ञापन दिया।

बनवारी गोंड ने कहा कि समस्त उत्तर प्रदेश में गोंड जाति के लोग प्रत्येक जनपदों में निवास करते चले आ रहे हैं सन 1977 में संपूर्ण उत्तर प्रदेश में उन्हें अनुसूचित जाति की श्रेणी में रखा गया है सन 2002 में संवैधानिक संशोधन करके भारत सरकार ने उत्तर प्रदेश के 13 जनपदों महराजगंज सिद्धार्थनगर बस्ती गोरखपुर देवरिया मऊ आजमगढ़ जौनपुर बलिया गाजीपुर वाराणसी मिर्जापुर व सोनभद्र में निवास करने वाले गोंड, धुरिया जातियों को अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में रखा है।

जाति प्रमाण पत्र जारी करने हेतु उत्तर प्रदेश की सरकार में भी समय-समय पर शासनादेश जारी किए हैं ।
जनगणना वर्ष 1891 के अनुसार बस्ती जिले में धुरिया की संख्या 39121, गोरखपुर में 35892,आजमगढ़ में 27019,जौनपुर में 13531,इलाहबाद में 11030 है।

अर्थात पुरे उत्तर प्रदेश में 1891 जनगणना के अनुसार 283321 की संख्या 130 वर्ष पूर्व रही है जिसके आधार पर जिलाधिकारी सिद्धार्थनगर,बस्ती, महराजगंज , गोरखपुर ने आदेश भी किया है और प्रमाणपत्र भी जारी किये हैं फिर भी वर्तमान में प्रमाण पत्र जारी नही किया जा रहा है।

आहत होकर समाज के लोग होकर माननीय उच्चन्यायालय इलाहबाद में जनहित याचिका दाखिल किये । याचिका के आधार 13 जनपदों के जिलाधिकारी आदेश हुआ लेकिन अनुपालन नही किया जा रहा है।

शासन प्रशासन बताये कि धुरिया जाति के जो लोग 1891 में थे आज वे लोग कहा गए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।