फसल विविधिकरण स्कीम के अन्तर्गत मेरा पानी-मेरी विरासत स्कीम का लाभ उठाये किसान:- उपनिदेशक कृषि गिरीश नागपाल अम्बाला 8 जुलाई:- कृषि विभाग के उपनिदेशक गिरीश नागपाल ने बताया की हरियाणा सरकार द्वारा फसल विविधिकरण स्कीम के अन्तर्गत मेरा पानी-मेरी विरासत स्कीम को लागू किया गया है जिसमें किसानों को मक्का, बाजरा, कपास व दलहन कि फसल बीजने पर 7000 रूपए प्रति एकड़ की आर्थिक मदद दी जाएगी। इस योजना के प्रचार-प्रसार बारे प्रचार वाहन के माध्यम से किसानो को जागरूक करते हुए इस बारे विस्तार से जानकारी दी जा रही है। जिला अम्बाला के घटते जल स्तर को देखते हुए कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, द्वारा किसानों को धान कि फसल कि जगह मक्का एवं उड़द की फसल बिजने की सलाह दी जा रही है। कृषि उपनिदेशक ने कहा कि मेरा पानी-मेरी विरासत योजना सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना के तहत जिला अम्बाला को 2400 हेक्टेयर का लक्ष्य दिया गया था। विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों के प्रयत्नों से लक्ष्य से अधिक की प्राप्ति हो चुकी है और पोर्टल पर 3028.4 हेक्टेयर का किसानो ने पंजीकरण करवाया है। स्कीम के अनुसार विगत वर्ष धान की तुलना में इस वर्ष मक्का लगाने वाले किसानो को 7000 रुपये प्रति एकड़ देने का प्रावधान है जोकि प्रदेश सरकार द्वारा किसानो के लिए लिया गया एक सराहनीय कदम है। उन्होंने यह भी बताया कि धान उगाने में पानी की बहुत अधिक जरूरत पड़ती है। यह योजना निश्चित रूप से पानी बचाने में भी कारगर सिद्ध होगी। उन्होंने यह भी बताया कि वर्तमान में मक्का उगाए खेतों का भौतिक निरीक्षण भी किया जा रहा है। इसमें किसान के खेत का किसान सहित फोटोग्राफ, भौगोलिक स्थिति लेकर रिकॉर्ड में रखा जाता है ताकि सही पात्र को योजना का लाभ समय रहते दिलवाया जा सके। उपनिदेशक ने कहा कि मक्का की सरकारी खरीद भी की जाएगी, सरकार की किसान हितेषी इस व्यवस्था से किसान भाई पानी की बचत के साथ -साथ धान के बराबर अच्छी आमदनी अर्जीत कर सकते है।
July 8th, 2020 | Post by :- | 28 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
फसल विविधिकरण स्कीम के अन्तर्गत मेरा पानी-मेरी विरासत स्कीम का लाभ उठाये किसान:- उपनिदेशक कृषि गिरीश नागपाल
अम्बाला 8 जुलाई:- कृषि विभाग के उपनिदेशक गिरीश नागपाल ने बताया की हरियाणा सरकार द्वारा फसल विविधिकरण स्कीम के अन्तर्गत मेरा पानी-मेरी विरासत स्कीम को लागू किया गया है जिसमें किसानों को मक्का, बाजरा, कपास व दलहन कि फसल बीजने पर 7000 रूपए प्रति एकड़ की आर्थिक मदद दी जाएगी। इस योजना के प्रचार-प्रसार बारे प्रचार वाहन के माध्यम से किसानो को जागरूक करते हुए इस बारे विस्तार से जानकारी दी जा रही है। जिला अम्बाला के घटते जल स्तर को देखते हुए कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, द्वारा किसानों को धान कि फसल कि जगह मक्का एवं उड़द की फसल बिजने की सलाह दी जा रही है।
कृषि उपनिदेशक ने कहा कि मेरा पानी-मेरी विरासत योजना सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना के तहत जिला अम्बाला को 2400 हेक्टेयर का लक्ष्य दिया गया था। विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों के प्रयत्नों से लक्ष्य से अधिक की प्राप्ति हो चुकी है और पोर्टल पर 3028.4 हेक्टेयर का किसानो ने पंजीकरण करवाया है। स्कीम के अनुसार विगत वर्ष धान की तुलना में इस वर्ष मक्का लगाने वाले किसानो को 7000 रुपये प्रति एकड़ देने का प्रावधान है जोकि प्रदेश सरकार द्वारा किसानो के लिए लिया गया एक सराहनीय कदम है। उन्होंने यह भी बताया कि धान उगाने में पानी की बहुत अधिक जरूरत पड़ती है। यह योजना निश्चित रूप से पानी बचाने में भी कारगर सिद्ध होगी। उन्होंने यह भी बताया कि वर्तमान में मक्का उगाए खेतों का भौतिक निरीक्षण भी किया जा रहा है। इसमें किसान के खेत का किसान सहित फोटोग्राफ, भौगोलिक स्थिति लेकर रिकॉर्ड में रखा जाता है ताकि सही पात्र को योजना का लाभ समय रहते दिलवाया जा सके। उपनिदेशक ने कहा कि मक्का की सरकारी खरीद भी की जाएगी, सरकार की किसान हितेषी इस व्यवस्था से किसान भाई पानी की बचत के साथ -साथ धान के बराबर अच्छी आमदनी अर्जीत कर सकते है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।