बंधवाड़ी गांव से डंपिंग स्टेशन को कौराली गांव में लाने को लेकर राजनीति गर्माई
July 7th, 2020 | Post by :- | 28 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।सूबे की राजनीति में इस समय उबाल है। खासकर नूह जिले के राजनीति पूरी तरह से गर्म है। राजनीति गर्म होने की वजह डंपिंग स्टेशन है। गुरुग्राम जिले के बंधवाड़ी गांव से डंपिंग स्टेशन को नूह जिले के कौराली गांव में लाने को लेकर यह राजनीति गर्माई हुई है ।
नूह से कांग्रेस विधायक एवं डिप्टी सीएलपी लीडर आफताब अहमद ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल की कथनी व करनी में फर्क बताते हुए कहा कि केंद्र सरकार वैसे तो इस जिले को एक्सप्रेशनल जिलों की सूची में बताकर विकास करने की बात कह रही है , लेकिन किसी विकास व तरक्की की परियोजना के बजाय जिले के पर्यावरण को दूषित करने तथा डंपिंग स्टेशन के आसपास के गांवों के लोगों की सेहत पर असर डालने वाली परियोजना किसी कीमत पर भी बर्दाश्त नहीं होगी । लोगों को कोई भी संघर्ष करना पड़ा तो इससे पीछे नहीं हटेंगे। विधायक आफताब अहमद ने मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि वह इस परियोजना को नूह विधानसभा के कौराली गांव में स्थापित ना करें , अगर उन्हें मेवात की तरक्की की इतनी ही चिंता है , तो यहां पर कोई विश्वविद्यालय कोई सड़क मार्ग या कोई उद्योग धंधे इत्यादि लेकर आएं , ताकि इस जिले का विकास हो सके। कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष आफताब अहमद ने कहा कि इलाके के लोग इस तरह की परियोजना को किसी सूरत में भी बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने चुनौती भरे लहजे में कहा कि सरकार अपनी इस तरह की सोच को वापस ले और यहां कचरा प्रबंधन के अलावा कोई बड़ी सौगात इलाके को देने का काम करे,  ताकि यह जिला भी पड़ोसी जिलों के बराबर तरक्की कर सके ।आफताब अहमद ने जिस तरह से सीधे प्रदेश के मुख्यमंत्री को निशाने पर लिया है , उससे साफ है कि डंपिंग स्टेशन को लेकर आने वाले समय में नूह जिले की राजनीति और तेज हो सकती है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी आजकल जिले के युवा कौराली गांव में डंपिंग स्टेशन स्थापित करने की पुरजोर मुखालफत कर रहे हैं । अब देखना यह है कि प्रदेश सरकार डंपिंग स्टेशन को लेकर क्या अंतिम फैसला लेती है। परंतु इतना जरूर है कि अगर नूह जिले के कौराली गांव में डंपिंग स्टेशन बनाने की सरकार ने प्रक्रिया शुरू की तो उसे भारी विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।