श्रृंगी ऋषि आश्रम पहुंचे रणदीप सुरजेवाला, महंत रामभज के निधन पर किया शोक व्यक्त
July 4th, 2020 | Post by :- | 28 Views

कैथल(विशाल चौधरी) कांग्रेस  के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी व कैथल से पूर्व विधायक रणदीप सिंह सुरजेवाला गांव सांगन के श्रृंगी ऋषि आश्रम शोक व्यक्त करने पहुंचे और महंत के हत्यारों को सजा दिलाने की इस लड़ाई में साथ खड़े रहने पर सभी ग्रामवासियों को आश्वस्त भी किया।

गौरतलब है कि पिछले दिनों गांव सांगन के श्रृंगी ऋषि आश्रम के महंत रामभज की कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। 11 दिन बीतने के बाद भी आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। महंत रामभज की हत्या से समस्त गांव सांगन व श्रद्धालु दुखी व गहरे सदमे में हैं। उन सबका आरोप है कि राजनीतिक दबाव के कारण महंत के हत्यारों को नहीं पकड़ा जा रहा है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि खट्टर सरकार के शासन में हरियाणा का हर नागरिक भय व डर के साए में जी रहा है। आए दिन गैंगस्टर द्वारा व्यापारियों, पुलिसकर्मियों और अब तो साधु संतों को भी हत्या कर मौत के घाट उतारा जा रहा है। उन्होंने कहा कि 4 दिन पहले ही सोनीपत में कानून के रखवाले 2 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गई। इससे पहले साल 2018 में भी मुख्यमंत्री खट्टर के खुद के विधानसभा क्षेत्र करनाल में गोविंद धाम मंदिर में भी एक महंत व एक पुजारी की हत्या कर दी गई थी। अभी पिछले दिनों सफीदों में भी गैंगस्टर द्वारा व्यापारी से फिरौती मांगने का मामला सामने आया था और अब कैथल के गांव सांगन में श्रृंगी ऋषि आश्रम के महंत रामभज की हत्या ये दर्शाती है कि हरियाणा में गुंडागर्दी,दहशतगर्दी व भय का माहौल चरम सीमा पर है। सरकार के संरक्षण में अपराधी बेख़ौफ़ घूम रहे हैं। लेकिन जनता सरकार के इरादे भांप चुकी है,समय आने पर उनके हर जुल्म व प्रताड़नाओं का हिसाब चुकता करेगी।

महंत रामभज के हत्यारों को लेकर रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि 11 दिन बीतने के बाद भी पुलिस हत्यारों को काबू नही कर पाई,जबकि मरने से पहले महंत ने हत्यारों के नाम लिए तो ये दर्शाता है कि खट्टर सरकार के संरक्षण में आरोपी निर्भय व बेख़ौफ़ घूम रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर महंत रामभज के भोग के समय तक खट्टर सरकार आरोपियों को नही पकड़ती तो कैथल में ग्रामवासियों के साथ मिलकर साधु संतों का समागम कर सचिवालय को घेरने का काम किया जायेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।