अखिल भारतीय विरोध दिवस पर सीआईटीयू द्वारा जिले में ब्लॉक वाइज किया धरना प्रदर्शन|
July 3rd, 2020 | Post by :- | 23 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 03 जुलाई :- अखिल भारतीय विरोध दिवस पर सीआईटीयू द्वारा पलवल जिले में ब्लॉक वाइज धरने प्रदर्शन किए गए पलवल ब्लॉक में आशा वर्कर आंगनवाड़ी, मिड डे मील, ग्रामीण चौकीदार सभा, ग्रामीण सफाई कर्मचारी सभी पलवल श्रद्धानंद पार्क में इकट्ठे हुए और वह आपने बात रखी जिसमें फिजिकल डिस्टेंस बनाकर और मास्क लगाकर नेताओं ने अपनी पूरी बात रखी सीटू के जिला प्रधान श्री पाल सिंह भाटी उप प्रधान राज पांचाल ने अपने संबोधन में मांगों के बारे बताया कि-

1     मजदूरों के हित में बने कानूनों को कमजोर करने का निर्णय वापस लो 8 घंटे के बजाय 12 घंटे काम करने का अध्यादेश वापस लो न्यूनतम मजदूरी 24000/- करो

2     सभी प्रवासी व स्थानीय मजदूरों के जरूरतमंद परिवारों को जब तक रोजगार ने मिले 10 किलो गेहूं या चावल और अन्य रसोई का सामान दो

3     संगठित व असंगठित पंजीकृत वह पंजीकृत गरीब परिवारों को जिनकी कोई  आमदनी नहीं है 6 महीने तक 7500/-रुपए की राशि दो

4     सरकारी स्वास्थ्य के ढांचे के लिए विस्तार करो इसमें निवेश करो स्वास्थ्य कर्मियों, एनएचएम के कर्मचारियों आशा वर्करों को रेगुलर करो व प्राइवेट अस्पतालों को भी सरकार अपने नियंत्रण में लेकर इस महामारी से लड़ने में सक्षम हो

5     कर्मचारियों व पेंशनरों के डीए को बाहल करो

6     हरियाणा में हटाए गए 1983 पीटीआई की नौकरी बहाल करो

7     उपभोक्ता व कर्मचारी विरोधी बिजली बिल को वापस लो

8     प्रवासी मजदूर चाहे रहा चलते दुर्घटना के शिकार हुए हो या अन्य दुर्घटनाओं में मारे गए हो उनके परिवार को उचित मुआवजा दो

9     जरूरी सेवा में लगे स्थाई और अस्थाई कर्मचारियों को सुरक्षा के पूरे उपकरण दो और उन्हें जोखिम भत्ता दो

10    मनरेगा में 200 दिन की दाल 200 दिन का काम दो और ₹600 प्रतिदिन मजदूरी की दिहाड़ी दो

11    कोयला रेलवे बैंक जहाज का मैप सरकारी कंपनियों को देशी और विदेशी प्राइवेट लोगों को भेजना बंद करो उनके हवाले करने का निर्णय वापस लो आज की सभा को राज पांचाल उषा देवी आशादेवी बनवारी लाल राजेश शर्मा रूपराम तेवतिया आदि नेताओं ने  संबोधित किया|

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।