महिन्द्रा फाईनेंस से जाली दस्तावेजों से लोन दिलाकर कम्पनी को 70 लाख की चपत लगाने वाला इनामी जालसाज गिरफ्तार
July 2nd, 2020 | Post by :- | 25 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । पुलिस मुख्यालय की क्राइम ब्रांच ने एसओजी में वांछित अलवर निवासी 10 हजार रूपये के इनामी जालसाज को गिरफ्तार किया है। पुलिस महानिदेशक अपराध बी एल सोनी ने बताया कि स्पेशल यूनिट प्रभारी पुलिस निरीक्षक जितेन्द्र गंगवानी ने मुखबिर की सूचना पर मय कानि. हेमन्त, रविन्द्र एवं प्रकाश की टीम के एसओजी में वांछित अभियुक्त रैणी, अलवर निवासी अमित शर्मा को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। अभियुक्त पर एक सप्ताह पूर्व एसओजी मुख्यालय जयपुर ने दस हजार रूपये का ईनाम घोषित किया था। पुलिस महानिदेशक अपराध ने बताया कि गत वर्ष जयपुर कमिश्नरेट के सांगानेर पुलिस थाने में दर्ज महिन्द्रा फाईनेंस, जयपुर के एक प्रकरण में अभियुक्त 30 चौपहिया वाहनों पर फर्जी तरीके से हस्ताक्षर,कूटरचित मोहर तथा जाली दस्तावेजों के आधार पर लाखो रूपये का लोन दिलाकर कम्पनी को नुकसान पहुँचाने के मामले में एक वर्ष से वांछित था। उक्त प्रकरण का अनुसंधान एसओजी, जयपुर द्वारा किया जा रहा है। अभियुक्त को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 402, 406, 410, 411, 420, 463, 468, 469 एवं 120बी में गिरफ्तार किया गया है। प्रकरण में अब तक 13 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
बीएल सोनी ने बताया कि अभियुक्त अमित शर्मा महिन्द्रा फाईनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड, प्रताप नगर जयपुर में बिजनेस एक्ज्युकेटिव के पद पर कार्यरत था जिसने बिना मौके पर सत्यापन किये ही अभियुक्तों से मिलीभगत कर फर्जी आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र एवं इनकम टेक्स रिटर्न का गलत प्रमाणीकरण कर अभियुक्तों को 30 चौपहिया वाहनों पर ऋण स्वीकृत करवा दिये। इसके पश्चात अभियुक्तों ने फर्जी एनओसी के आधार पर परिवहन कार्यालय से वाहनों का वित्त पोषण हटवाकर सभी वाहन अपने नाम ट्रांसफर करवा लिए जबकि कम्पनी ने एनओसी जारी करने वाले स्पेसीमैन हस्ताक्षर पहले से परिवहन कार्यालय में दिये हुए थे। पुलिस महानिदेशक अपराध ने बताया कि स्पेशल यूनिट द्वारा गत वर्ष भी जयपुर पूर्व जिले के अलग-अलग थानों में वांछित चार ईनामी अभियुक्तों को गिरफ्तार किया था। इन पर कुल 15 हजार रूपये का ईनाम घोषित था। इसी प्रकार महानिरीक्षक जयपुर रेंज द्वारा घोषित 10 हजार रूपये के ईनामी एक अभियुक्त को भी गिरफ्तार किया गया था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।