सांसद और विधायकों के वेतन और पेंशन 12 माह तक रोक लगाए जाने की मांग
July 2nd, 2020 | Post by :- | 38 Views

मथुरा,(राजकुमार गुप्ता)  कोरोनावायरस के कारण सरकार और देश की जनता आर्थिक संकट से गुजर रही है इस संकट के दौरान गरीब एकता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष विवेक महाजन एडवोकेट केंद्र सरकार और राज्यों की सरकार से मांग करते हैं की सभी सांसदों विधायकों एवं मंत्रियों के वेतन को 12 माह तक रोक लगानी चाहिए वहीं उन्होंने सांसद विधायकों मंत्रियों एवं पूर्व सांसद विधायकों से अपील की है कि वह अपना वेतन और पेंशन देश के हित में 12 माह तक छोड़ने की कृपा करें देश आर्थिक संकट में है भुखमरी की कगार पर खड़ा है सांसद विधायकों को अपना फर्ज अदा करते हुए इस पुनीत कार्य में आगे आना चाहिए यदि सांसद और विधायक स्वेच्छा से अपना वेतन छोड़ेंगे तो जनता के बीच उनका सम्मान बढ़ेगा और उन को दिए जाने वाले वेतन का आर्थिक भार सरकार पर नहीं पड़ेगा उन्होंने
कहां की सांसद और विधायकों की आर्थिक स्थिति मजबूत होती है वेतन ना मिलने पर इनके आगे कोई संकट खड़ा नहीं होगा परंतु इससे होने वाली बचत से सरकार जरूरतमंद लोगों की मदद कर सकेगी गरीब एकता दल प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी से भी अपील करती है कि सांसद और विधायक को को मिलने वाली तनख्वाह और पेंशन पर तत्काल रोक लगाएं इससे होने वाली बचत से आम आदमी को राहत पहुंचाने का कार्य हो सके गरीब एकता दल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दीपक गोयल ने कहा कि देश इस समय गंभीर संकट में है उन्होंने सांसद और विधायकों से आह्वान किया है कि वह अपने वेतन को स्वेच्छा से छोड़ें इससे समाज में एक संदेश जाएगा तथा अन्य सक्षम लोग भी इस कार्य के लिए आगे आएंगे गरीब एकता दल के राष्ट्रीय महासचिव श्री गोपाल शर्मा
गोवर्धन विधानसभा अध्यक्ष ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि उनकी मांग को माननीय प्रधानमंत्री जरूर पूरी करेंगे क्योंकि देश के हित में यह बहुत जरूरी है और माननीय प्रधानमंत्री जी देशहित के फैसलों में कभी देर नहीं करते सांसद विधायकों की तनख्वाह पर रोक लगाकर समाज में एक अच्छा संदेश जाएगा और इससे होने वाली बचत से देश के गरीब मध्यम वर्ग के लोगों को सहारा मिलेगा

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।