सैंकड़ो किसानों और मजदूरों द्वारा एस एस पी देहाती अमृतसर कार्यलय के सामने दर्ज मामले रदद् कराने के लिए दिया धरना ।
July 1st, 2020 | Post by :- | 83 Views

सैंकड़े किसानों और मजदूरों द्वारा एस एस पी देहाती अमृतसर के कार्यलय के सामने दर्ज मामले रद्द कराने के लिए दिया धरना
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब की।अध्यक्षता में जिला अमृतसर के सैंकड़ों किसान ,मजदूरों और औरतों द्वारा एस एस पी देहाती के कार्यलय के सामने 188 धारा के तहत दर्ज किए गए मामलों को रद्द कराने और किसानों व मजदूरों के मसलों को सुलझाने के लिए जिला प्रधान लखविंदर सिंह वरयाम नंगल ,जर्मनजीत सिंह बंडाला ,रणजीत सिंह कलेरबाला की अध्यक्षता में नारेबाजी करते हुए धरना शुरू किया गया। धरने को संबोधित करते हुए राज्य प्रधान सतनाम सिंह पन्नू ,महासचिव सरवन सिंह पंधेर ,राज्य सचिव गुरबचन सिंह चब्बा ने कहा कि कैप्टन सरकार द्वारा 188 के मामले दर्ज कर डराने की कोशिश की जा रही है। देश के जनतक विभाग ,कृषि ,मंडी बोर्ड ,बिजली बोर्ड का निजजीकर्ण कर देश विदेश के कारपोरेट कंपनियों के हवाले कर लूट का साधन बनाया जा रहा है। किसान नेताओं ने कहा कि गेहूं की बिकवाली करने के लिए 28 -29,-30 अप्रैल को गांव स्तर पर रोष मार्च करने के कारण सब डिवीजन पावरकॉम मेहता में धरना लगाने के कारण पुलिस जिला देहाती अमृतसर द्वारा पुलिस थाना खिलचिया ,कत्थुनंगल, मजीठा ,और लोपोके और जिला पुलिस तरनतारन द्वारा 188 धारा के तहत किसान मजदूरों पर मामले दर्ज किए गए थे। कोविड 19 का बहाना बनाकर मोदी सरकार द्वारा लोकडौन लगाकर देश की जनता में दहशत फैला कर घरों में रहने के लिए मजबूर किया गया। बिजली एक्ट 2020 को लागू कर दिया गया है ,जिसके साथ कृषि मंडी और बिजली बोर्ड को खत्म कर निजजीकर्ण का रास्ता साफ कर दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार स्वामीनाथन की रिपोर्ट लागू करे धान समेत 23 फसलों की सरकारी खरीद की गरंटी दी जाए और पेट्रोल ,डीज़ल की कीमतों को सरकार के कंट्रोल के अंतर्गत लाया जाए ।नशों के मामलों में किसान नेताओं ने कहा कि राहगीरों के साथ दिन रात लूट की वारदातें हो रही है जबकि नशों के कारण युवकों की मौतें हो रहीं हैं। चेतावनी देते हुए कहा कि यदि पुलिस से सबंधित शिकायतों का जल्द निवारण नही किया गया तो वह अपने सँघर्ष को और तेज़ करेंगे ,जिसकी जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन की होगी ।इस मौके पर अजीत सिंह ठठिया ,चरण सिंह कलेर ,मुखबैन सिंह जोधानगरी ,हरबिंदर सिंह भलाईपुर,सुखदेव सिंह चाटीविंड ,गुरदेव सिंह वरपाल ,कंवलजीत सिंह वंचड़ी, सविंदर सिंह रूपोवाली,झिरमल सिंह बज्जूमान ,मुख्तार सिंह भंगवां ,कृपाल सिंह कलेर मांगट, गुरदेव सिंह ,गग्गोमहल ,हरपिंदर सिंह चमियारी ,बलदेव सिंह कलेर ,अमरपाल सिंह रोमी ,दिलबाग सिंह चक्क मिश्री खाँन ,जोगा सिंह व अन्य हाज़िर थे ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।