खोयरी गांव में टिड्डी दल भगाने के लिए कराया स्प्रे
June 30th, 2020 | Post by :- | 32 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।   सोमवार को देर शाम जैसे ही पलवल जिले की ओर से टिड्डी दल ने मेवात पुन्हाना क्षेत्र में प्रवेश किया तो लोगों में हडकंप मच गया। होडल से पुन्हाना की तरफ भारी संख्या में टिड्डी दल ने प्रवेश किया। लेकिन रात होते होते पुन्हाना के लुहिंगाकला, मल्हाका, जेतलका, खोयरी, झारपुडी, डूंगेजा, चांदडाका सहित कई गावों में टिड्डी दल उतर गया। इनमें सबसे ज्यादा टिड्डी दल मल्हाका, खोयरी व डूंगेजा में देखा गया। किसानों के नुकसान को देखते हुए मल्हाका गांव के पूर्व सरपंच सपात खान ने तुरंत प्रभाव से टिड्डी दल की सूचना प्रशासन को दी, जिसके बाद कृषि विभाग के अधिकारियों ने तुरंत प्रभाव से दो टीमों का गठन करके टिड्डी दल को भगाने के लिए एक अभियान चलाया। इस अभियान के तहत खोयरी, मल्हाका व नीमखेडा सहित कई गावों से टिड्डी दल को दमकल गाडी द्वारा कीटनाशक दवाईया का स्पे्र कराकर हटाया गया। गनीमत रही कि टिड्डी दल फसलों में नहीं उतरा वरना किसानों को भारी नुकसान झेलना पड सकता था।
मल्हाका पंचायत के खोयरी गांव में टीम लेकर पहुंचे कृषि निदेशक डॉक्टर महावीर सिंह ने बताया कि जिन गावों में टिड्डी दल मौजूद है वहीं पर हमारी टीम पहुंच कर दमकल की गाडी से कीटनाशक दवाईयों से स्प्रे करा रही है, ताकि टिड्डी दल को भगाया जा सके और किसानों की फसलों को नुकसान से बचाया जा सके। उन्होंने बताया कि टिड्डी दल ने पेडों पर दस्तक दी है, फसल को इससे कोई नुकसान नहीं हुआ है। समय रहते किसानों को नुकसान से बचाने के लिए टिड्डी दल को भ्भगाने के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। डॉक्टर महावीर सिंह ने कहा कि किसानों की फसलों को टिड्डी से कोई नुकसान न हो इसके लिए सरकार व प्रशासन लगातार काम कर रही हैं। उन्होंने बताया कि इस तरह का टिड्डी दल अरब देश से आता है, वहां पर जब भी वातावरण सही मिलता है तो इस तरह का टिड्डी दल हवा के साथ इधर प्रवेश करता है। हरियाणा में इस तरह का टिड्डी दल पिछले 40 सालों में पहली बार देखने को मिला है। टिड्डी दल को भगाते समय डॉक्टर विवेक, मनीष कुमार, सतीश मित्तल, पूर्व सरपंच सपात मल्हाका, सुमरत जेतलका सहित कृषि विभाग के कई अधिकारी व ग्रामीण मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।