भटकते रहे मृतक के परिजन चैन की नींद सोते रहे अधिकारी
June 30th, 2020 | Post by :- | 633 Views

कोंडागॉंव/ अमरेश कुमार झा

आज जब मनुष्य कॅरोना महामारी के दौर में मानवता का परिचय देते हुए एक दूसरे के काम आने लगे है तो वंही कोंडागांव के अधिकारियों की निष्ठुरता सामने आई है।अक्सर सभी विभागों में पुलिस महकमा लापरवाही और निष्ठुरता के लिए बदनामी झेलता है। पर कल रात जो वाकया सामने आया उसमे पुलिस की सहृदयता दिखी परंतु राजस्व विभाग के अधिकारियों के असफ़रशाही ने जिले का सिर शर्मसार कर दिया।
पूरा मामला मसोरा के पास हुए सड़क हादसे से जुड़ा है। मसोरा के पास हुए सड़क हादसे में कांकेर निवासी तुलेश्वर नाग की मौत हो गई। घटना की खबर मिलने पर मृतक का भाई अपने दोस्तों के साथ कोंडागांव पहुचा। थाने में घटना को लेकर विभागीय लिखापढ़ी में पुलिस ने मृतक के परिजन(बड़े भाई ) का पूरा सहयोग किया। चूंकि पोस्टमार्टम के लिए सुबह तक इंतजार करना था। इसके लिए पुराने सर्किट हाउस में रुकने के लिए एसडीएम से लेकर तहसीलदार तक को 11 बजे रात में कई बार फोन किया गया । पर अधिकारी फोन उठाना उचित नही समझे, वही सर्किट हाउस के चौकीदार 12 बजे रात में फोन अटेन्ड किया। चौकीदार एसडीएम के आदेश की बात कहता रहा। आखिरकार अधिकारी चैन की बांसुरी बजाते रहे औए मृतक के परिजन भटकते रहे। ताकि सुबह होते ही अपनो की लाश के साथ सिस्टम का शव ले जा सके। यह कँहा तक उचित है कि आम जनता के हित के लिए शपथ लेने वाले ये उच्च अधिकारियों का यह कृत्य कितना जायज है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।