कुदरत के कहर से परेशान बागवान , सरकार से लगाई मुआवजे की गुहार
June 30th, 2020 | Post by :- | 160 Views
करसोग /आनी :- (दिलाराम भारद्वाज ब्यूरो )मण्डी जिला के उपमंडल करसोग व कुल्लू जिला के आनी में बीती रात कुदरत ने कहर मचा दिया और बागवानों के सपनो को धाराशाही कर दिया और उनके चेहरे में चिंता की लकीरें खींच ली जो लगता है पूरा साल भरने वाली नहीं है क्यूंकि सेब की फसल आने की उम्मीद में जो सपने देखे थे वो हवा के कहर से घड़ी भर में चकनाचूर हो गए ।
करसोग से 30 की मी दूर जैई गांव में तो नजारा ही बहुत हृदय विदारक था की बागबान सेब की फसल को जमीन पर गिरा देख बर्बाद फसल को दुःखी हो कर इकठ्ठा कर घर में गाए के लिए ले जा रहे है और आने वाले समय की चिंता व्यक्त कर रहे है ।
एक ओर पहले ओलों की मार सहे बागबान पहले ही बहुत परेशान थे जो रही सही कसर थी वो रविवार रात को आए तूफान ने जख्म को ताजा कर नासूर बना दिया ।
सेब की फसल लगभग 20 दिनो बाद मण्डी में भेजने की तयारी कर रहे बागवान नुकसान देख स्तब्ध रह गए जब खेतो में फसल बर्बाद हो गई ।
सेब के साथ साथ खुर्माणी की फसल भी बर्बाद हुई है ।
उधर ग्राम पंचायत तेबन  , कुठेड, पोखी ‘ महोग, सराहन , गोवालपुर ,में हुई क्षति से प्रभावित क्षेत्र का  आकलन करने की मांग की जा रही है  और  जैई गांव के रमेश कुमार , रूप लाल तेबणी महादेव के गुर किशोरी लाल ,प्रताप मेहता , केयर सिंह सराहन  , गोवालपूर के फिरोज मेहता गोवर्धन ,प्रेम चंद , मूलराज , गिरधारी लाल ,महोग के  जे. एस. सोनू , मंदिर कमेटी प्रधान ध्यान सिंह , कुठेड के  देश राज आदि ग्रमीणों ने सरकार से मांग की है कि बागवानों कि इस संकट कि घड़ी में मदद कि जाएं व बर्बाद हुई फसल का आकलन कर मूआबजे के रूप में राहत प्रदान की जाए ।
ऐसा ही आनी क्षेत्र में भी हुआ है विशलाधार  के रवि कोसमारे, जीवन आजाद  ,रुह्टि के गौरव भारती , कमल राम दलाश व कई अन्य जगह पर भी बागवानों की फसल बर्बाद हुई है ।आनी के संवाददाता विनय गोस्वामी ने कहा की द्लाश के गोहान में भी ऐसा ही मंजर देखने को मीला और पीयूष , राकेश , बिन्नी शर्मा ग्रमीणों ने उचित मुआबजे  की गुहार सरकार से लगाई है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।