बीती रात करसोग के विभिन्न क्षेत्रो में तूफान का तांडव,बागवानों,किसानों की फसलें तबाह।,मुआवजे की उठी मांग
June 29th, 2020 | Post by :- | 34 Views

करसोग(मोहन शर्मा):-उपमंडल करसोग में रविवार मध्यरात्रि करसोग के विभिन्न क्षेत्रों में बारिश व भारी तूफान ने रौद्र रूप से तांडव किया। तूफान से कई जगह पेड़ सड़क पर गिर गए वहीं गांव देलग व बेलरधार में गऊशैड,गवालपुर में एक परिवार के छत उड़ने का समाचार है।उपमंडल करसोग के अंतर्गत बखरोट, पोखी,स्यांज बगड़ा के भमाला, चमरोगा, थानोग एवम तेबन के गांव जैई,रशोग इत्यादि गांव में रविवार रात्रि को बारिश के साथ भारी तूफान से सेब की फसल को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है । भारी तूफान के तांडव से सेब के पौधो पर लगे सेब खेतो में गिर गए और कई जगह तो पौधे जड़ से ही उखाड़ दिए। सेब सीज़न के आगमन से पहले जब फसल पक कर तैयार थी तो आंधी तूफान ने बागवानों की आशाओं पर पानी फेर दिया।आशंका बताई जा रही है कि इस बार का सेब सीजन ज्यादा फायदेमंद नही रहेगा। जिसके चलते अब किसान बहुत चिंतित है। ग्राम पंचायत तेबन के बागवान रूप लाल का कहना है कि एक तो किसान कोरोना संकट की मार झेल रहा है और साल की एकमात्र उम्मीद सेब की फसल होती है और वह फसल भी तूफान से तबाह हो चुकी है। बागवानों ने सरकार व प्रशासन से मांग की है कि वह मौके पर पहुंचकर किसानों की फसल के नुकसान का जायजा लिया जाए।औऱ किसानों, बागवानों के नुकसान की भरपाई के बारे में तुरन्त सोचा जाए।

नायब तहसीलदार करसोग सार्थक शर्मा का कहना है कि आंधी, तूफान व बर्षा से हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए टीमें लगा दी गई है औऱ रिपोर्ट आने के बाद आगामी कारवाही की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।