एम आर आई टेंडर को लेकर मचा बवाल, नये सिरे से की टेंडर प्रक्रिया की मांग।
September 7th, 2019 | Post by :- | 112 Views

बीकानेर,(मनीष)।  संभाग के सबसे बड़े अस्पातल में महाराजा एम आर आई टेण्डर की अवधि बढ़ाने का मामला अब तूल पकडऩे लगा है। जिसको लेकर शनिवार को दो अलग अलग संगठनों ने विरोध जताते हुए नये सिरे से टेण्डर प्रक्रिया की मांग की है। बजरंग दल के पूर्व संयोजक दुर्गासिंह की अगुवाई में शहर के युवाओं ने मेडिकल कॉलेज प्राचार्य का घेराव कर न सिर्फ पीबीएम में फैल रही अनियमिताओं को लेकर हुंकार भरी, बल्कि शिकायतों के बाद भी एमआरआई का काम देख रही फर्म के ठेके की अवधि को आगे बढ़ाने पर आक्रोश जताया।

दुर्गासिंह ने चेतावनी देते हुए पीबीएम प्रशासन को कहा है कि यदि ठेका अवधि में आगे बढ़ाया जाता है तो बीकानेर की जनता के साथ वे सडकों पर उतर जाएंगे। सिंह ने प्राचार्य को अवगत कराया कि महाराजा एम आर आई में कार्यरत कार्मिक मनमानी तरीके से कार्य कर रहे है। वे महिलाओं,वृद्वजनों व दिव्यांगों की जांचे भी समय पर न कर देर रात को करते है। जबकि राज्य सरकार ने इस वर्ग की जांचे प्राथमिकता से करने के दिशा निर्देश दे रखे है। यहीं नहीं मशीन खराब होने की स्थिति में मरीज को बाहर से मंहगी दर पर एमआरआई करवानी पड़ती है। जबकि एमओयू में मशीन खराब होने की स्थिति में फर्म की जिम्मेदारी है कि वो ही संबंधित मरीज की एमआरआई की जांच करवाएं।पर ऐसा यहां देखने को नहीं मिल रहा है। शिष्टमंडल ने अस्पताल में सफाई की अव्यवस्था व सुरक्षा गार्डों की संख्या में भी भ्रष्टाचारी का आरोप लगाते हुए पीबीएम प्रशासन को चेताया कि अगर आगामी सात दिवस में दिये मांग पत्र पर सकारात्मक परिणाम नहीं आएं तो आन्दोलन को भुगतने को तैयार रहे। इस पर प्राचार्य ने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि आरपीपीटी एक्ट के अनुसार ही कार्यवाही की जाएगी। मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने इस संदर्भ में सरकार को भी अवगत करवा दिया है। जब तक इस फर्म की अवधि समाप्त नहीं होती है तब तक जो कमियां सामने आ रही है। उसको सुधारने के निर्देश फर्म को दे दिए जाएंगे। साथ ही जल्द ही सफाई का नया ठेका कर व्यवस्थाओं को सुचारू कर दिया जाएगा और इनकी नियमित रूप से मॉनिटरिंग की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।