विदेश भेजने के नाम पर धोखाधडी व मानव तस्करी करने के आरोप में एक महिला गिरफतार
June 27th, 2020 | Post by :- | 31 Views

कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।  जिला कुरूक्षेत्र पुलिस ने विदेश भेजने के नाम पर धोखाधडी व मानव तस्करी करने के आरोप में एक महिला किया गिरफतार। इस बारे में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक कुरूक्षेत्र, श्रीमति मोदी ने बताया कि विदेश भेजने के नाम पर दिन-प्रतिदिन लोगों के साथ धोखाधडी व मानव तस्करी की वारदातें बढ़ती जा रही है। जिसका खुलासा लोकडाॅउन के दौरान विदेशो में फंसे लोगों के वापिस आने पर हुआ। लोग आये दिन एसे लोगों के चंगुल में फंसते आ रहे है। जो बेरोजगार युवाओं को विदेश मे भेजने के नाम पर बडे बडे सपने दिखा कर उनको ऐसे लोगों के हाथ बेच देते है जो उन युवाओं को विदेशों में काम दिलाने के लिए उनके अभिभावकों से मन मर्जी के पैसे वसूलते है।

यह भी देखने में आया है कि लोगे लालच के वंश में आ कर अपने बच्चों को बिना सोच विचार किये ऐसे दरीदौ के हाथो ंमें अपने बच्चों को सौंप देते है। जो उनको दिन रात यातनाऐ देकर उनके साथ अमानवीय व्यवहार करते है। ऐसे कई मामलें जिला कुरूक्षेत्र में देखने को मिल रहे है। दिनांक 28 मई 2020 को मुल्ख राज पुत्र तोती राम वासी जलूबी नजदीक बस स्टैण्ड, जिला अम्बाला ने थाना शहर थानेसर पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया था कि उसके जीजा मलिक वस्तिया ने उसके लड़के विशाल वस्तिया उम्र 20 साल को करीब 6 साल पहले गोद लिया था। उसके जीजा ने उसको फोन पर बताया था कि महेश कुमार पुत्र शाना राम वासी जलूबी थाना बराडा जिला अम्बाला जो एजेन्ट है उसके जीजा मलिक वस्तिया जो न्युयार्क मे रहता है। महेश कुमार एजेन्ट के माध्यम से विशाल वस्तिया की दिल्ली से कवाटो जाने के लिये 28 जनवरी 2019 को जाने वाली फ्लाईट की टिकट बुक करवाई थी। उस फ्लाईट में वह अकेला था। इसके लिए उसके घरवालों से एजैन्ट की 18/20 लाख रुपये में डील हुई थी। जिसके आधे पैसे उसके घरवालों ने पहले ही दे दिये थे। उसके लड़के ने बताया था कि वह कवाटों में एकवाडोर में एक होटल में रुक्का। वहां पर एक डंकी महिला उससे मिलने आई थी। जिसने वहां पर 2 लोगों को ठहराया हुआ था। उसके बाद उसने उसको कोलम्बिया भिजवाया।

कोलम्बिया से पनामा के लिए 30/35 लडकों का एक ग्रुप जो किश्ती वा जंगलों के रास्त से कोस्ट्रिका होते हुए ग्वाटेमाला पहुचे थे। वहाॅ पर उनकों एक डंकी के घर में 6 दिन तक रोका गया। उसके बाद उन्होनें उससे फोन करवा कर उसके घरवालों से एजैन्ट महेश को पैसे देने के लिए कहा। पैसे देने के बाद वह गवाटेमाला से मैक्सिको गए। जहां एक महिने का कैम्प किया और कन्ट्री कैम्प इमीग्रेशन लेकर मैक्सिको से सैण्डियागो (कैलीफोरनिया) की पुलिस ने उसको 18 मई 2019 को पकड़ कऱ लिया। फिर वह सैन्लुईस तालाहाची, लुसियाना, टैक्सस आदि अलग-अलग जगहों पर रहा और इकवाडोर उतरते ही डन्की ने उसका पासपोर्ट और 200 डालर छीन लिए, जो पासपोर्ट अभी भी उन्ही के पास है। जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच अपराध शाखा-2 के प्रभारी निरीक्षक मलकीत सिंह को सौंप दी। जिसनें अपने सहयोगी उप निरीक्षक गुलाब सिंह, एसआई जीत सिंह, हवलदार दीपक, सतपाल महिला सिपाही रेखा की टीम के साथ जांच करते हुए आरोपी महेश कुमार पुत्र शाना राम वासी जलूबी को 22 जून 2020 को थाना शाहबाद में दर्ज धोखाधडी के मुकदमा न0 249/2020 में गिरफतार किया गया था। जिसने स्वीकार किया था कि इस मामले में एक महिला पत्नी छिन्द्र पाल वासी न्यु दशमेश नगर जालन्धर भी शामिल थी।

एक महिला पत्नी छिन्द्र पाल वासी न्यु दशमेश नगर जालन्धर को उप निरीक्षक जीत सिंह की टीम ने काबू करके गिरफतार कर लिया था। जिसको माननीय अदालत में पेश करके एक दिन के पुलिस रिमाण्ड पर लिया गया था। जिसने रिमाण्ड अवधी के दौरान दिये गये पैसों में से अपने घर से 20 हजार रूपये पुलिस को बरामद करवा दिये है। जांच जारी है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।