कांग्रेस पार्टी द्वारा उपायुक्त को राष्ट्रपति के नाम सौंपा जाएगा ज्ञापन।
June 27th, 2020 | Post by :- | 29 Views

अंबाला , मुलाना ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी )

देश पहले से ही कोरोना के कारण आर्थिक तंगी से जूझ रहा है, ऊपर से केंद्र सरकार लगातार पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ाकर आम जनता की कमर तोड़ रही है। दुनियाभर में कच्चे तेल की कीमत घट रही है लेकिन भारत में पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ते ही जा रहे हैं। देश में पेट्रोल-डीजल के लगातार दाम बढ़ने से जनता में आक्रोश है। इसको लेकर कांग्रेस पार्टी द्वारा 29 जून को सुबह 9:30 बजे मिनी सचिवालय अम्बाला के सामने इकट्ठे होकर उपायुक्त को पेट्रोल डीजल की कीमतों को कम करने बारे राष्ट्रपति मोहदय के नाम ज्ञापन सौपेंगी।ये बात हल्का मुलाना विधायक वरूण चौधरी ने कही।उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीज़ल के बढ़ते दाम सबसे ज़्यादा आम आदमी और किसान पर भारी पड़ रहे हैं। क्योंकि खेती का ज़्यादातर काम डीज़ल पर निर्भर है। सिंचाई से लेकर ट्रांसपोर्ट तक में सबसे ज़्यादा डीज़ल इस्तेमाल होता है। लेकिन, मौजूदा सरकार ने डीज़ल को पेट्रोल से भी महंगा कर दिया है। तेल के दामों का सीधा कनेक्शन महंगाई से है।उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े तीन महीनों में भाजपा सरकार ने डीज़ल पर मूल्य और उत्पाद शुल्क 26.48 रु. प्रति लीटर व पेट्रोल पर 21.50 रु. प्रति लीटर बढ़ा दिया।

एक सरकार द्वारा देश के नागरिकों का इससे ज्यादा शोषण और क्या हो सकता है।देश के नागरिकों से छल करने और उनकी गाढ़ी कमाई की जबरन वसूली का अंदाजा इस बात से लग सकता है कि पिछले कुछ महीनों में अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव कम हुए हैं।परन्तु हमारे देश मे तेल के दाम लगातार बढे है।जिससे साबित होता है कि मोदी सरकार भारत के भोले भाले नागरिकों की जेब पर डाका डालकर उन्हें खसोट रही है।विधायक ने सरकार के आग्रह किया है कि सरकार बढ़े तेल की कीमतों को वापिस ले और आम आदमी को इस महामारी में राहत प्रदान करे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।