मिड डे मील वर्कर्स ने अपनी मांगों को लेकर तहसीलदार को प्रधानमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन|
June 26th, 2020 | Post by :- | 36 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 26 जून :- मिड डे मील वर्कर यूनियन हरियाणा के आवाहन पर जिला पलवल में मिड डे मील वर्कर्स गुर्जर धर्मशाला में इकट्ठी हुई व वहां से जुलूस के रूप में नारे लगाती हुई उपायुक्त कार्यालय में ज्ञापन लेकर पहुंची जहां तहसीलदार को अपनी मांगों का ज्ञापन दिया|  तहसीलदार ने प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन को अपनी उच्च टिप्पणी के साथ भेजने का आश्वासन दिया सीटू के जिला प्रधान श्री पाल सिंह भाटी मिड डे मील की जिला सेक्रेटरी उषा ने अपने संबोधन में बताया कि देश के सभी राज्यों में मार्च से स्कूल बंद पड़े हैं खाद्य सुरक्षा कानून के अंतर्गत मिड डे मील में बच्चों को सूखा राशन मिड डे मील कार्यकर्ताओं के द्वारा घर-घर पहुंचाया जा रहा है|

अनेकों जगहों पर होम सेंटर अर्थात कोरोनटाइन सैनटर पर खाना बनाने का काम भी मिड डे मील वर्कर्स कर रहे हैं लेकिन इस काम के बदले उन्हें कोई राशि नहीं दी जा रही है और न ही सुरक्षा के पूरे उपकरण डे मील वर्कर्स को दिए जा रहे हैं यह भी मांग करते  है कि साल में केवल 10 महीने का ही वेतन मिलता है 12 महीने का वेतन मिले इसलिए ज्ञापन के माध्यम से यह मांगे प्रधानमंत्री को भेजी गई है|

1:- करोना महामारी के दौरान मिड डे मील वर्कर्स को न्यूनतम ₹-7500 दिए जाए।

2:- सभी मिड डे मील वर्कर्स के परिवार को 10 किलो प्रति व्यक्ति के हिसाब से राशन दिया जा व रसोई का पूरा सामान मुहैया कराया जाए

3:- आइसोलेशन सेंटर शेल्टर होम्स में काम कर रहे वर्कर्स को प्रतिदिन ₹600 के हिसाब से राशि दी जाए।

4:-  मानदेय का भुगतान महीने की 10 तारीख को हो और पूरे 12 महीने का मानदेय दिया जाए।

5:-  मिड डे मील वर्कर्स को जब तक पक्की नौकरी की जाती है तब तक न्यूनतम वेतन ₹-24000 दिया जाए।

6:- 45 में श्रम सम्मेलन की सिफारिशों के अनुसार वर्कर नियमित  हो और न्यूनतम वेतन पेंशन दी जाए सभी बच्चों को लौटाया हुआ प्रवासी समेत राशन बढ़ी हुई मात्रा में उपलब्ध कराया जाएगा

7:-  मनरेगा मजदूरों को भोजन उपलब्ध कराया जा सकता है। दोपहर का भोजन बनाया जा सकता है इसके लिए मजदूरी का भुगतान किया जाए। आज की सभा को दरियाव सिंह कमलेश बनवारी लाल निशा रूपबती ने संबोधित किया|

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।