यमुना का जलस्तर बढा, अधिकारियों ने किया गांवों का दौरा |
August 19th, 2019 | Post by :- | 129 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  सोमवार को होडल व हसनपुर के प्रशासनिक अधिकारियों ने हसनपुर यमुना किनारे के गांवों का दौरा कर यमुना किनारे बसे गांवों के पंच, सरपंच, व गांवों के मौजिज लोगों की बैठक ली और उन्हें यमुना में बढने जलस्तर की जानकारी दी। प्रशासनिक अधिकारियों के इस शिष्टमंडल का नेतृत्व होडल एसडीएम वत्सल वशिष्ट कर रहे थे।

इस मौके पर एसडीएम के साथ तहसीलदार गुरूदेव सिंह, नायाब तहसीलदार हसनपुर मो. इब्राहिम, जनस्वास्थ्य विभाग के एसडीओ अशोक कुमार, जेई बिनोद कुमार, थाना प्रभारी उमर मोहम्मद, पटवारी दारा सिंह व तारा चन्द मौजूद थे। एसडीएम ने यहां बैठक में पंच-सरपंचों को बताया कि हथनी कुंड बैराज से लगभग 8.14 लाख क्यूसिक पानी यमुना नदी में छोडे जाने के कारण यमुना का जलस्तर तेजी से उनकी और बढता आ रहा है जिसके कारण कभी भी यमुना के किनारे पर बसे गांवों में बाढ जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।

एसडीएम ने यहां अतवा, मुस्तफाबाद, काशीपुर, रहीमपुर, सुलतापुर, अच्छेजा, इंदिरा नगर, फाटसकोनगर, माहौली, वलीमोहम्मदपुर, मुर्तजाबाद आदि गांवों का दौरा किया। एसडीएम ने बताया कि यमुना किनार बसे गांवों के लोगों को मुनादी कराकर भी सचेत किया जा रहा है। एसडीएम वशिष्ट ने बताया कि यमुना नदी के लगते क्षेत्रों में संभावित बाढ के खतरे से बचाव के लिए प्रशासन द्वारा सभी आवश्यक प्रबंध कर लिए गए हैं। एसडीएम ने पशुपालन एवं डेयरी विभाग के उपनिदेशक द्वारा पशुओं के लिए उचित दवाओं की व्यवस्था करने, उपनिदेशक कृषि विभाग द्वारा पशुओं के लिए चारा आदि की व्यवस्था करवाने के निर्देश दिए गए।

उन्होंने बताया कि जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारी ग्रामीणों के लिए टैंट एवं खान-पान का प्रबंध करेंगे। सिविल सर्जन को प्रभावित क्षेत्र में अस्थाई सहायता कैंप में चिकित्सों की डयूटी लगाना एवं दवाईयों का उचित प्रबंध करने के निर्देश दिए। इसके अलावा गांवों में फोगिंग करवाने के निर्देश दिए। एसडीएम ने बताया कि यमुना से लगते हुए गांवों में रात व दिन के समय पुलिस गस्त जारी रहेगी और स्थानीय गोताखोरों को आपातकालीन स्थिति हेतु चयनित करने के निर्देश दिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।