पलवल में मलेरिया व डेंगू के लिए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट|  
June 25th, 2020 | Post by :- | 25 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 25 जून :- सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप सिंह की अध्यक्षता में नागरिक अस्पताल में मलेरिया की एक बैठक आयोजित की  गई। बैठक में उप सिविल सर्जन डॉ राजीव बातिस सहित अन्य सभी संबंधित डाक्टर व कर्मचारी भी मौजूद रहे। सिविल सर्जन बताया कि वर्ष 2019 मे मलेरिया के 182 मामले तथा डेंगू 45 मामले आये थे जोकि वर्ष 2018 की तुलना मे 50 प्रतिशत कम थे तथा अब 2020 मे मलेरिया व डेंगू का अभी तक किसी भी प्रकार का कोई भी मामला सामने नही है।फिर भी जिला पलवल का स्वास्थ्य विभाग मलेरिया व डेंगू को लेकर पूरी तरह से मुस्तैदी के साथ अपने कार्य मे लगा हुआ है।

उन्होंने बताया कि अब तक जिला पलवल मे मलेरिया की जांच के लिए  पिछले महीने तक 43679 से जयादा बुखार के मरीजो की जांच की जा चुकी है, जिसमे एक भी मलेरिया का मरीज नही पाया गया है। जिले मे अब तक मलेरिया विभाग की टीमो द्वारा घरो की जांच की गई है। इस दौरान मच्छर का लार्वा पाए जाने पर 270 घरों मे चेतावनी सम्बन्धी नोटिस भी दिए जा चुके है।

पलवल शहर के सभी वार्ड मे नगर परिषद के साथ मिलकर फोगिंग करवाई गई है तथा कुछ कॉलोनी में जहां पर मलेरिया व डेंगू के ज्यादा मामले आते है, उन सभी में दोबारा से फोगिंग की एक्टिविटीज करवा दी गई है। इसके साथ ही 217 तालाब व जोहोड़ो में लार्वाभक्षी गाम्बुजिया मछली भी डलवा दी गई है। जो तालाब व नाले गंदे है उनकी सफाई के लिए नगर परिषद को अवगत करवा दिया गया है। पानी ठहरेगा जहां मच्छर पनपेगा वहां।

उन्होंने बताया कि जिले मे डेंगू संभावित क्षेत्रो की सूची तैयार कर ली गई ह,ै जिनमे स्वास्थ्य विभाग की टीमो द्वारा एंटी लार्वा संबंधित जरूरी एक्टिविटीज करवाई जा रही। इस जून के महीने को समस्त जिले मे एंटी मलेरिया माह के रूप मे मनाया जा रहा है, जिसमे सभी गावों मे आशा व एम.पी.एच.डब्ल्यू (मेल) घर-घर जाकर मलेरिया रोधी एक्टिविटीज कर रहे है, जिसमे लोगो को मलेरिया व डेंगू के प्रति जागरूक किया जा रहा है। इसके साथ-साथ कोविड-19 के बारे मे भी लोगो को सामजिक दूरी बनाए रखने व मास्क पहनने के लिए भी आमजन को जागरूक किया जा रहा है।

जिले मे सभी बुखार से पीडि़त मरीजो की जांच एम.पी.एच.डब्ल्यू.(मेल) व आशा के द्वारा मुफ्त में की जा रही है और जिले मे अब तक पी.वी. मलेरिया बुखार के 5 मरीज पाए गए है, जिनका  तुरंत प्रभाव से 14 दिन का इलाज किया जा रहा है। इस कार्य मे गांव के सभी पंच-सरपंचो से बढ़-चढक़र अपना योगदान देने की अपील की गई थी, जिसके मुताबिक वह भी अपना सहयोग कर रहे है। इसी के साथ जिले के सभी खंडों में बैठक भी की जा चुकी है, जिसमे मलेरिया व डेंगू की रोकथाम संबंधी लक्ष्य को पूरा करने के लिए सख्त निर्देश दे दिए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।