जिला में सूरजमुखी की खरीद कार्य के तहत 3459.164 मीट्रिक टन सूरजमुखी की खरीद की जा चुकी है, वहीं 2455.224 मीट्रिक टन सूरजमुखी की लिफ्टिंग भी हो चुकी है:- डीएम वी.पी. मलिक। 
June 25th, 2020 | Post by :- | 24 Views

अम्बाला, ( सुखविंदर सिंह ) डीएम हैफड वेदपाल मलिक ने बताया कि उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा के दिशा-निर्देशानुसार जिला की मंडियों में सूरजमुखी की खरीद सुचारू रूप से जारी है। यह खरीद हैफैड और हरियाणा भण्डारण निगम द्वारा किसानो से सीधे तौर पर की जा रही है। सूरजमुखी न्यूनतम मूल्य 5650 रूपए प्रति क्ंिवटल पर खरीदी जा रही है। यह खरीद भारत सरकार की नीति प्राईस स्पोर्ट स्कीम के तहत है। पैसे सीधे किसानों के खातों में स्थानांतरित होगें।
हैफेड के  जिला प्रबन्धक वीपी मलिक ने बताया कि इस बार अम्बाला शहर, अम्बाला छावनी, मुलाना, शहजादपुर व बरवाला मंडी मे सूरजuमुखी की खरीद की जा रही है। अम्बाला शहर, शहजादपुर व बरवाला मंडी से हैफेड व अम्बाला कैन्ट व मुलाना मंडी से हरियाणा भण्डारण निगम सूरजमुखी की खरीद की जा रही है। यह खरीद आढ़तियों के द्वारा न करके सीधे हैफेड और हरियाणा भण्डारण निगम द्वारा मार्किटिंग सोसायटी की मार्फत की जा रही है। उन्होनें बताया कि सरकारी खरीद का लाभ उन्हीं किसानों को मिलेंगा जो किसान मेरी फसल मेरा ब्यौर पर पंजीकृत होगें। उन्होंने बताया कि सूरजमुखी की खरीद कार्य के तहत 3459.164 मीट्रिक टन सूरजमुखी की खरीद की जा चुकी है, वहीं 2455.224 मीट्रिक टन सूरजमुखी की लिफ्टिंग भी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि हैफड द्वारा 1081.640 मीट्रिक टन व हरियाणा वेयर हाउसिंग द्वारा 2377.524 मीट्रिक टन सूरजमुखी की खरीद की जा चुकी है।
हैफड के डीएम वेदपाल मलिक ने बताया कि सरकारी निर्देशों के अनुसार एक दिन में एक किसान से अधिकतम 40 क्ंिवटल तक सूरजमुखी की खरीद की जा रही है। प्रति एकड़ 7.05 क्ंिवटल औसत पैदावार आंकी गई है। किसानों से आग्रह किया गया है कि सूरजमुखी की फसल मंडियों में एक साथ न लाकर मार्किटिंग बोर्ड क मेटी द्वारा जारी दिनों व गांव सारणी के अनुसार ही फसल लाए ताकि सूरजमुखी की खरीद में किसी को असुविधा न हो।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।