स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित सामग्रियों को जिले के सभी आश्रम छात्रावासों में खरीदी जायेगी-कलेक्टर सभी स्व-सहायता समूहों को गुणवत्तायुक्त सामान बनाने के निर्देश
June 24th, 2020 | Post by :- | 54 Views

कांकेर@टोकेश्वर साहू :- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन ‘‘बिहान’’ योजना अंतर्गत जिला पंचायत के सभाकक्ष में कलेक्टर के.एल. चौहान की अध्यक्षता में जिले के महिला स्व-सहायता समूहों के सदस्यों की बैठक आयोजित की गई। उन्होंने समीक्षा करते हुए कहा कि बिहान योजना अंतर्गत गठित स्व-सहायता समूह द्वारा उत्पादित सामग्रियों को जिले के सभी आश्रम, छात्रावासों में दैनिक उपयोग करने के लिए खरीदने हेतु निर्देश दिये।
कलेक्टर चौहान ने जिले के 188 आश्रम एवं छात्रावासों में बिहान समूह से जुडे महिलाओं के द्वारा निर्मित सामानों को विक्रय किये जाने हेतु योजना बनाई गई, जिसमें दैनिक उपयोग में आने वाली सामग्री जैसे-मिर्च-मसाले, आचार, पापड़, बडी, आंटा, हरी सब्जियां दाल, फिनाईल, हैण्डवास, साबुन, निरमा इत्यादि सामग्रियों को गुण्वत्तायुक्त बनाने तथा उचित मूल्य को ध्यान में रखते हुए समूह के सदस्यों से सीधे आश्रमों में बेचे जाने हेतु चर्चा की गई।
समीक्षा बैठक में कलेक्टर द्वारा मंडल संयोजकों को निर्देशित करते हुए कहा कि प्रत्येक आश्रम, छात्रावासों में बच्चों की दर्ज संख्या के आधार पर एक वर्ष के लिए आवश्यक सामग्रियों की सूची बनाया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने आश्रम-छात्रावासों के मांग अनुसार महिला स्व-सहायता समूह से सामग्रियों का उत्पादन कराने विकासखण्ड परियोजना प्रबंधक को निर्देश दिये, ताकि समूह द्वारा उत्पादित सामग्रियों का उचित मूल्य प्राप्त हो सके। बैठक में कलेक्टर ने निर्मित सामग्रियों को भंडारण करने के लिए प्रत्येक विकासखण्ड में दो-दो भंडारकक्ष बनाये जाने के निर्देश भी दिये। उन्होंने समीक्षा करते हुए कहा कि गौठानो में स्वीकृत मुर्गी शेड में समूह के द्वारा मुर्गी पालन से प्राप्त अण्डों को आश्रम छात्रावासों एवं सुपोषण अभियान में पूर्ति किये जाने निर्देशित किये।
बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ.संजय कन्नौजे, सहायक कलेक्टर रेना जमील, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग सी.एस. मिश्रा, जिला परियोजना प्रबंधक ममता प्रसाद, प्रधानमंत्री फेलो नेहा सिंह एवं अंकित पिंगल उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।