डाईट पलवल (कुरुक्षेत्र) में ‘हरा भरा हो कुरुक्षेत्र हमारा’ पौधारोपण अभियान 2020 के सातवें चरण में वसुधैव कुटुंबकम संस्कृति सेवा आयाम एवं प्रेरणा कुरुक्षेत्र के संयुक्त तत्वावधान में पौधारोपण कार्यक्रम का आयोजन
June 24th, 2020 | Post by :- | 25 Views

कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।       डाईट पलवल (कुरुक्षेत्र) में ‘हरा भरा हो कुरुक्षेत्र हमारा’ पौधारोपण अभियान 2020 के सातवें चरण में  वसुधैव कुटुंबकम संस्कृति सेवा आयाम एवं प्रेरणा कुरुक्षेत्र के संयुक्त तत्वावधान में पौधारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप सुभाष मैहला पूर्व सरपंच गांव पलवल ने शिरकत की। डाइट पलवल को हरा भरा करने के दृष्टिगत मुख्यातिथि सुभाष मेहला, विशिष्ट अतिथि प्रेरणा के संस्थापक अध्यक्ष जयभगवान सिंगला, आशा सिंगला, अध्यक्षा रेणु खुग्गर, कार्यक्रम संयोजक डॉ तरसेम कौशिक एवं एसोसिएट एनसीसी ऑफिसर डॉ केवल कृष्ण, सुरेंदर कुमार व टिक्का सिंह ने त्रिवेणी रोपित कर पौधारोपण अभियान का शुभारंभ किया।

मुख्यातिथि सुभाष मेहला ने कहा कि पौधों की वजह से पृथ्वी पर जीवन संभव है क्योकिं पौधे हमें प्राणवायु प्रदान करते हैं।

उन्होंने डाइट परिसर को हरा भरा बनाने के लिए हर प्रकार का सहयोग करने का आश्वासन दिया तथा साथ ही संकल्प भी किया कि इन पौधों की देखभाल वे स्वयं करेंगे।

वरिष्ठ प्राध्यापक व डाइट प्रभारी मैन पाल शर्मा ने सभी गणमान्य अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पौधारोपण जैसे पुनीत कार्य में सहभागिता करना ईश्वर की आराधना के समान है। उन्होंने कहा कि डाइट पलवल में मानसून में प्रत्येक सप्ताह पौधे रोपित किए जायेंगे तथा तीन साल तक उनकी पुत्रवत देखभाल भी की जाएगी।

विशिष्ट अतिथि जय भगवान सिंगला ने कहा कि पर्यावरण को शुद्ध बनाने के लिए पौधारोपण करना बहुत ही बड़ा पुण्य का कार्य है, क्योंकि पेड़ पौधे पारिस्थितिकी तंत्र को न केवल संतुलित करते हैं अपितु वायुमंडल में उपस्थित हानिकारक कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित कर जीवनदायिनी ऑक्सीजन भी प्रदान करते हैं। कार्यक्रम संयोजक डॉ तरसेम कौशिक एवं डॉ केवल कृष्ण ने बताया कि भारतीय परिवेश में वृक्षों को देवतुल्य मानकर इनकी पूजा-

अर्चना की जाती है इसीलिए भगवान श्रीकृष्ण ने गीता में “अश्वत्थः सर्ववृक्षाणाम् ” कहकर वृक्षों की महिमा का गान किया है। एकान्यपुराण के अनुसार “अश्वस्थ”   (पीपल) वृक्ष के तने में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में श्री हरि और फलों में सब देवता सदा निवास करते हैं। अतः जितना हो सकें, ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करना चाहिये।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।