पेयजल व सीवरेज प्रबंधन को लेकर जिला में किए जा रहे कार्यों की उपायुक्त ने की समीक्षा|
June 23rd, 2020 | Post by :- | 23 Views

हर घर नल के अंतर्गत प्रत्येक घर में शुद्ध पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य,
जल जीवन मिशन में शामिल सभी परियोजनाओं पर करें गंभीरता से कार्य,

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 23 जून :- उपायुक्त नरेश नरवाल की अध्यक्षता में लघु सचिवालय के कांफे्रस हॉल में मंगलवार को जन स्वास्थ्य विभाग की ओर से जल जीवन मिशन के तहत जल एवं सीवरेज मिशन की बैठक आयोजित की गई। उपायुक्त ने बैठक के दौरान गांवों में पेयजल व सीवरेज प्रबंधन को लेकर जिला में किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की और संबंधित अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

उपायुक्त ने कहा कि जल जीवन मिशन केंद्र सरकार की वह महत्वपूर्ण योजना है, जिसके माध्यम से वर्ष 2022 तक हर घर नल से प्रत्येक घर में शुद्ध पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। इसे निर्धारित समय सीमा से पूरा किया जाना है। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन की सफलता के लिए प्रत्येक विभाग का आपसी तालमेल के साथ कार्य करें। चाहे वह ग्राम जल एवं सीवरेज समिति के गठन का मामला हो या गांव की जल परियोजनाओं के विस्तारीकरण या पुनरुद्धार का मामला हो। उन्होंने बताया कि जल जीवन मिशन की सफलता के लिए सभी विभागों की भूमिका निर्धारित कर दी गई हैं।

उपायुक्त ने अधिकरियों को निर्देश दिए कि जल जीवन मिशन में शामिल सभी परियोजनाओं पर गंभीरता से कार्य करें। जहां-जहां भी पेयजल व सीवरेज की समस्या हो, उसे तुरंत प्रभाव से दूर किया जाए। उपायुक्त ने जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी को निर्देश दिए कि वे गांवों में ग्राम एवं सीवरेज समिति की बैठक नियमित रूप से आयोजित करें ताकि गांव की पेयजल संबंधी समस्याओं के बारे में जानकारी मिल सके। जिन ग्राम पंचायतों के पास फंड उपलब्ध है उनकी जानकारी जनस्वास्थ्य विभाग को दी जाए ताकि एस्टीमेट तैयार करके गांवों के विकास कार्यों में और अधिक प्रगति हो।

उपायुक्त ने शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास, मौलिक शिक्षा आदि विभागों को निर्देश देते हुए कहा कि जल जीवन मिशन के बारे में ग्रामीणों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के तहत कार्य करने वाले जल एवं सीवरेज सहयोग संगठन के कर्मचारियों को अपना योगदान देकर उनकी सहायता करें।

सरकार की इस महत्वपूर्ण योजना के बारे में आमजन को जागरूक करने के साथ-साथ उन्हें विभाग को हर स्तर पर सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित करें। पंचायत विभाग का कार्य ग्राम जल एवं सीवरेज समिति का गठन, समिति में 50 प्रतिशत महिलाओं की हिस्सेदारी, समिति के बैंक खाते खोले जाने व जल परियोजनाओं पर खर्च होने वाली कुल राशि का 10 प्रतिशत पंचायत की ओर से विभाग को अदा करने बारे आदि विभिन्न कार्यों में अहम भूमिका अदा करना है।

बैठक में जन स्वास्थ्य विभाग के अधीक्षक अभियंता जनकराज ने बताया कि जिला में जल जीवन मिशन के तहत प्रथम चरण में 11 गांवों में 30 अप्रैल 2020 तक जल प्रबंधन का कार्य करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसे विभाग ने निर्धारित समय में पूरा कर लिया है। इन 11 गांवों में पेयजल संबंधी योजनाओं के लिए बजट का एस्टीमेट मुख्यालय भेज दिया है। इन गांवों में हर घर तक जल पहुंचाने के लिए पेयजल कनेक्शन दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि विभाग का 32 हजार 947 पेयजल कनेक्शन वैध करने का लक्ष्य था, जिसमें से 29 हजार 920 को वैध करके विभाग ने करीब 89 प्रतिशत लक्ष्य पूरा कर लिया है तथा शेष पर कार्य जारी है।

जल जीवन मिशन के तहत जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से किए जा रहें कार्यों का उल्लेख करते हुए जिला सलहाकार कुसुम जांगड़ा ने बताया कि विभाग की ओर से जिले के ग्रामीण क्षेत्र में सर्वे का कार्य किया गया है। हर घर को नल से जल के उदेश्य को पूरा करने के लिए जो एफएचटीसी के टारगेटस दिए गए वो पूरे कर लिए गए हैं। ग्रामीण स्तर पर ग्राम जल एंव सीवरेज कमेटी का पुन: निमार्ण कार्य किया जा रहा हैं। संबधित ग्रामों के एस्टीमेट्स तैयार किए जा रहे हैं।

जिला सलाहकार ने बताया कि गांव स्तर पर बनने वाली ग्राम जल एवं सीवरेज समिति में 50 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी की जा रही है। इनमें आशा वर्कर, आंगनवाड़ी वर्कर, स्वयं सहायता समूह की महिलाएं, महिला पंच और सेवानिवृत महिला शिक्षक शामिल हैं। जिला में 259 में से 50  समितियां गठित की जा चुकी हैं। उन्होंने बताया कि जल प्रबंधन पर दस प्रतिशत पंचायत विभाग द्वारा खर्च किया जाएगा।

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त वत्सल वशिष्ठ, नगराधीश जितेन्द्र कुमार, होडल के एसडीएम अमरदीप सिंह, पलवल के एसडीएम कंवर सिंह, हथीन के एसडीएम वकील अहमद, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी शमशेर सिंह नेहरा, जिला राजस्व अधिकारी नरेश जोवल, जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग के अधीक्षक अभियंता जनकराज, कार्यकारी अभियंता रमेशचंद गौड, वरिष्ठï चिकित्सा अधिकारी अजय माम, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी अनिल शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी अशोक बघेल, जिला सलाहकार कुसुम जांगडा, बीआरसी संजय कुमार सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।