ग्रामीण सफाई कर्मचारियों का दूसरे दिन भी प्रदर्शन जारी रहा
June 23rd, 2020 | Post by :- | 73 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  नूंह जिले एक  ग्रामीण सफाई कर्मचारियों ने दूसरे दिन बीडीपीओ कार्यालय नूह पर धरना दिया गया। प्रदेश के सभी ग्रामीण सफाई कर्मचारी ईपीएफ लागू करवाने , 2020 के बकाया वर्दी भत्ते का भुगतान , तथा पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा उपकरण दिए जाने आदि मांगों को लेकर गत सोमवार से अपना राज्यव्यापी आंदोलन शुरू कर दिया । मांगों का समाधान ना होने के चलते रोष स्वरूप आज प्रदेश भर में काले बिल्ले लगाकर काम किया गया।
ग्रामीण सफाई कर्मचारी यूनियन हरियाणा ब्लॉक के प्रधान व ब्लॉक सचिव ने संयुक्त जारी करते हुए कहा की प्रदेश सरकार ग्रामीण सफाई कर्मचारियों की और कोई ध्यान नही दे रही। सरकार ने इन कर्मचारियों को राम भरोसे छोड़ दिया है। कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर सरकार को बार-बार समस्याओं से अवगत करवा चुके है। उसके बाद भी सरकार कर्मचारियों की सुध लेने को तैयार नही है। जिससे सफाई कर्मचारियों में रोष बढ़ता जा रहा है।
यूनियन नेताओं ने कहा की 4 सितम्बर 2019 को पीएफ लागू करने का पंचायत विभाग ने पत्र जारी किया था। उसके बाद पीएफ लागू करने के लिए लिए वित्त विभाग से मंजूरी के नाम पर 4 माह गुजार दिए तथा 9 जनवरी को वित्त विभाग ने भी मंजूरी दे दी तथा 17 मार्च को विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान-सचिव ने ईपीएफ लागू करने बारे पत्र जारी कर दिया उसके बाद भी जिले के किसी ब्लॉक में ग्रामीण सफाई कर्मचारियों को ईपीएफ के दायरे में शामिल नही किया गया है। जिसके कारण लगातार कर्मचारियों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है।
  यूनियन नेताओ ने कहा की कोरोना बीमारी लगातार बढ़ती जा रही है। इस बीमारी में भी सफाई कर्मी ईमानदारी से अपनी जान को जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं। लेकिन सरकार इन ग्रामीण सफाई कर्मचारियो को इस बढ़ती कोरोना महामारी में पर्याप्त मात्रा में मास्क , दस्ताने , सेनेटाइजर सहित पूरी सुरक्षा किट भी नही दी जा रही और ना ही 50 लाख बीमा कवरेज और जोखिम भत्ता दिया जा रहा है।
यूनियन नेताओं ने कहा की सरकार एक तरफ कर्मचारियों पर वर्दी पहनकर काम करने का दबाव बना रही है और दूरी तरफ 3500 रूपये सालाना मिलने वाले वर्दी भत्ते का 2020 में किसी भी कर्मचारी को भुगतान तक नही किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।